भोपाल: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने साफ कर दिया है कि उनकी सरकार बहुमत साबित करने के लिए तैयार है, और उन्हें कोई दिक्कत नहीं है. नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव द्वारा विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने के लिए राज्यपाल को लिखे गए पत्र के बाद राज्य की सियासत गर्म है.

 

इस बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि बीते पांच माह में चार बार बहुमत सिद्घ किया जा चुका है. विधानसभाध्यक्ष, उपाध्यक्ष के चुनाव के अलावा अनुदान मांगों और बजट के समय बहुमत सिद्घ किया जा चुका है. चार बार तो बहुमत सिद्घ कर दिया. बहुमत सिद्घ करने में हमें कोई दिक्कत नहीं है. उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि ये तड़प रहे हैं, क्योंकि ये सोचते हैं कि अब इनका खुलासा होने वाला है, जो इन्होंने भ्रष्टाचार किया है 15 सालों में. उस खुलासे से बचने के लिए ये पूरा प्रयास करेंगे कि वर्तमान सरकार को डिस्टर्ब किया जाए.

विपक्ष को विश्वास, बहुमत से दूर रहेगा NDA, विकल्प तैयार रखने की जरूरत

वर्तमान में कांग्रेस को 121 विधायकों का समर्थन
राज्य विधानसभा में 230 विधायकों में कांग्रेस के पास 114 विधायक हैं. यह सरकार चार निर्दलीयों, बसपा के दो और सपा के एक विधायक के समर्थन से चल रही है. वहीं भाजपा के पास 109 विधायक हैं. वर्तमान में कांग्रेस को 121 विधायकों का समर्थन हासिल है.

NDA की जीत बताने वाले एग्जिट पोल की कर्नाटक CM ने की निंदा, कहा- बनाया जा रहा झूठा माहौल