Begusarai Lok Sabha Seat Result: लोकसभा चुनाव के नतीजों में बिहार की हॉट सीट बेगूसराय (Begusarai) से सीपीआई उम्मीदवार कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) की हार पर अभिनेता से नेता बने रवि किशन (Ravi Kishan) ने एक तीखा बयान दिया है. यूपी की गोरखपुर (Gorakhpur) सीट से बीजेपी के टिकट पर जीत हासिल करने वाले रवि किशन ने जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के बारे में कहा है कि जो देश के टुकड़े-टुकड़े करने की बात करता हो, उसे जनता का विश्वास कभी हासिल नहीं हो सकता. रवि किशन ने कहा कि आप राष्ट्र विरोधी होकर, देश के खिलाफ बातें करके और एक मजबूत सरकार को गालियां देकर कभी जीतने लायक नहीं बन सकते हैं.

बेगूसराय सीट पर बीजेपी के फायर ब्रांड नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कन्हैया कुमार को चार लाख से अधिक वोटों के अंतर से हराया है. इस सीट पर गिरिराज, कन्हैया के अलावा आरजेडी के उम्मीदवार तनवीर हसन के बीच त्रिकोणीय मुकाबले की बात कही जा रही थी, लेकिन नतीजों में गिरिराज ने एकतरफा जीत हासिल की.

कन्हैया कुमार साल 2016 में उस वक्त सुर्खियों में आए थे, जब उनके खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हुआ था. बेगूसराय से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के उम्मीदवार के रूप में चुनावी मैदान में उतरे कन्हैया कुमार को मीडिया के एक धड़े में खूब दिखाया गया. वहीं, 2014 के लोकसभा चुनावों में नवादा सीट से जीतने वाले गिरिराज सिंह इस बार बेगूसराय से प्रत्याशी बनाए जाने पर नाखुश थे. उन्होंने शुरुआत में खुलकर इसके खिलाफ अपनी बात भी रखी थी, लेकिन बाद में पार्टी आलाकमान से बातचीत के बाद वह मान गए.

अगर रवि किशन की बात करें तो उन्होंने गोरखपुर लोकसभा सीट से सपा-बसपा गठबंधन के राम भुआल निषाद को 3 लाख से अधिक वोटों से हराया है. गौरतलब है कि गोरखपुर को भाजपा खासकर योगी आदित्यनाथ का गढ़ माना जाता है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ ने तीन लाख से अधिक मतों से इस सीट से जीत दर्ज की थी. योगी आदित्यनाथ के यूपी का मुख्यमंत्री बनने से खाली हुई इस सीट पर कराए गए उपचुनाव में सपा-बसपा गठबंधन के उम्मीदवार प्रवीण निषाद ने जीत दर्ज की थी. हालांकि, लोकसभा चुनाव से पहले निषाद भाजपा में शामिल हो गए.

गोरखपुर से जीत दर्ज करने के बाद रवि किशन ने कहा है कि अपने क्षेत्र में रोजगार के अवसर मुहैया कराना उनकी पहली प्राथमिकता होगी. उन्होंने अपनी जीत का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विकास कार्यों को दिया. उन्होंने कहा कि मेरी प्राथमिकता केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार की नीतियों को जनता के बीच ले जाने की भी है.