पटना. इस लोकसभा चुनाव में किसी एक नेता का न होना, सियासी गलियारों में खटक रहा है, तो वह हैं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव. राजद सुप्रीमो लालू यादव अभी देशभर में चर्चित चारा घोटाला के मामले में जेल में सजा काट रहे हैं. हालांकि सजा के दौरान भी वे अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए सक्रियता दिखाते रहते हैं. गाहे-बगाहे लालू ट्वीट के जरिए अपने सियासी दुश्मनों पर निशाना साधते रहते हैं. बुधवार को इसी क्रम में उन्होंने अपने पुराने प्रतिद्वंद्वी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा. राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने नीतीश कुमार को निशाने पर लेते हुए कहा कि बिजली जाने पर अभी भी ‘लालटेन’ जलाने की जरूरत पड़ती है. यही नहीं, उन्होंने महागठबंधन का साथ छोड़कर भाजपा के साथ जाने पर भी नीतीश कुमार पर तंज किया. उन्होंने कहा कि नीतीश का ‘तीर’ (जदयू का चुनाव चिह्न) अब ‘कमल’ (भाजपा का चुनाव चिह्न) के फूल को चीरने का काम कर रहा है.

पीएम मोदी के नाम से लॉन्च हुए चैनल ‘नमो टीवी’ पर चुनाव आयोग ने सरकार से मांगा जवाब

राजद अध्यक्ष ने ट्वीट किया, “नीतीश बोलते हैं कि अब ‘लालटेन’ की जरूरत नहीं है, लेकिन यह नहीं जानते कि बिजली जाने पर तो ‘लालटेन’ जलाना पड़ता ही है.” दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सार्वजनिक मंचों से कई बार कटाक्ष करते हुए कह चुके हैं कि बिहार के हर घर तक बिजली पहुंच गई है और अब यहां ‘लालटेन’ की जरूरत नहीं है. उल्लेखनीय है कि राजद का चुनाव चिह्न ‘लालटेन’ है. लालू ने जद (यू) के चुनाव चिह्न को लेकर भी कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया, “अब कोई नीतीश को समझाए कि उसका निशान ‘तीर’ तो द्वापर युग में ही खत्म हो गया था. अब उनका वह ‘तीरवा’ कमल के फूल को चीरने के काम आ रहा है. का समझे? कुछ बुझे?”

बेगूसराय में कन्हैया कुमार के रोड-शो में एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने दिखाए काले झंडे, पुलिस ने दर्ज की FIR

लालू के इस ट्वीट के जवाब में जद (यू) के प्रवक्ता नीरज कुमार ने इशारों ही इशारों में लालू के बड़े पुत्र को छोड़कर छोटे पुत्र को उत्तराधिकारी बनाने पर तंज कसते हुए कहा कि शायद महाभारत के होने के कारणों को याद रखते. नीरज ने ट्वीट किया, “आप को भी दर्द है कि लोग लालटेन को क्यों भूल रहे हैं. आप ऐसे महानुभाव हैं कि ‘टि्वटर’ को भी चिड़िया कहते थे. आज बिजली जाएगी तब न. जब बिजली समुचित उपलब्ध हो, तो लालटेन को कौन पूछे! ‘तीर’ सच में द्वापरयुग से आ रहा, पुराने युग को कौन भूल सकता? शायद आप भी महाभारत होने के कारणों को याद रखते?” उल्लेखनीय है कि लालू इन दिनों चारा घोटाले में रांची की एक जेल में सजा काट रहे हैं. अस्वस्थ रहने के कारण वर्तमान समय में उनका इलाज रांची के एक अस्पताल में चल रहा है.

(इनपुट – एजेंसी)

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com