नई दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पास रविवार को होने वाले आखिरी व सातवें चरण के लोकसभा चुनाव में महागठबंधन के मुकाबले संभवत: बढ़त हासिल है क्योंकि इस अंतिम चरण की 13 सीटों में से नौ सीटों पर महागठबंधन की जाति व संप्रदाय आधारित समीकरण के काम नहीं करने की संभावना है. भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टियों ने 2014 में पूर्वी उत्तर प्रदेश की इन सभी 13 सीटों पर कब्जा जमाया था. इस वर्ष भी सभी की निगाहें वाराणसी संसदीय सीट पर हैं, जहां से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोबारा चुनाव लड़ रहे हैं.

इस बार गोरखपुर सीट पर भी सभी की निगाहें रहेंगी. भाजपा इस सीट पर जीत दर्ज करने के लिए पूरा जोर लगा रही है क्योंकि योगी आदित्यनाथ के इस मजबूत गढ़ पर यहां हुए उपचुनाव में महागठबंधन ने जीत दर्ज की थी. कांग्रेस के लिए भी इस चरण के चुनाव महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री रहे आरपी एन सिंह कुशीनगर सीट से मजबूत दावेदारी पेश कर रहे हैं तो महाराजगंज सीट पर पत्रकार से राजनेता बनी सुप्रिया श्रीनेत चुनाव मैदान में खड़ी हैं.

अगर 2014 में यहां महागठबंधन के सपा और बसपा घटक दलों को मिले मतों को देखें तो, दोनों पार्टियों के संयुक्त वोट शेयर 13 में से केवल चार सीटों में भाजपा से ज्यादा होते हैं. सीट जहां महागठबंधन के लिए जाति और समुदाय का समीकरण काम कर सकता है, वह घोसी, बलिया, गाजीपुर और चंदौली हैं. बाकी सीटों पर 2014 के आंकड़ों के हिसाब से महागठबंधन भाजपा से पीछे है.

2014 में गोरखपुर में, सपा व बसपा का संयुक्त वोट शेयर भाजपा से कम था, तब योगी आदित्यनाथ ने 5,39,127 मत हासिल किए थे. लेकिन भाजपा यहां समाजवादी पार्टी के प्रवीण निषाद के हाथों उपचुनाव हार गई और पहली बार योगी के गढ़ में सेंध लगी थी. प्रवीण निषाद हालांकि इस बार भाजपा के साथ हैं और वह संत कबीर नगर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि भोजपुरी अभिनेता रविकिशन गोरखपुर से भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं.

इस चरण में भाजपा की सहयोगी और केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल भी मिर्जापुर से चुनाव मैदान में हैं. वह संप्रग के ललितेश त्रिपाठी और महागठबंधन के प्रत्याशी राजेंद्र एस विंद के सामने खड़ी हैं. वहीं भाजपा की तरफ से गाजीपुर से केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा और चंदौली से महेंद्र नाथ पांडेय चुनाव लड़ रहे हैं. भाजपा इस बात को लेकर आश्वस्त है कि स्थिति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में है जिससे जाति और समुदाय का समीकरण अस्थिर हो जाएगा.

महाराजगंज(2014)
विजेता : पंकज (भाजपा) 4,17,542
अखिलेश (सपा) 2,13,974
काशी नाथ शुक्ला (बसपा)- 2,31,084
सपा और बसपा को मिलाकर- 4,45,058
फायदा : भाजपा

गोरखपुर(2014)
विजेता: योगी आदित्यनाथ (भाजपा) 5,39,127
राजमती निषाद (सपा) 2,26,344
रामभुआल निषाद (बसपा) 1,76,412
सपा और बसपा मिलाकर- 4,02,756
फायदा : भाजपा

कुशीनगर(2014)
विजेता: राजेश पांडे ऊर्फ गुड्ड (भाजपा) 3,70,051
कुंवर रतनजीत प्रतात नारायण सिंह (कांग्रेस) 2,84,511
राधा श्याम सिंह (सपा) 1,11,256
डॉ. संगम मिश्रा (बसपा) 1,32,881
सपा और बसपा मिलाकर- 2,44,137
फायदा-भाजपा

देवरिया(2014)
विजेता: कलराज मिश्रा (भाजपा) 4,96,500
नियाज अहमद (बसपा) 2,31,114
बलेश्वर यादव (सपा) 1,50,852
सपा और बसपा मिलाकर 3,81,966
फायदा : भाजपा

बांसगांव(2014)
विजेता : कमलेश पासवान (भाजपा) 4,17,959
गोरख प्रसाद पासवान (सपा) 1,33,675
सादल प्रसाद (बसपा) 2,28,443
सपा और बसपा मिलाकर – 3,62,118
फायदा : भाजपा

घोसी(2014)
विजेता: हरि नारायण राजभर (भाजपा) 3,79,797
दारा सिंह चौहान (बसपा) 2,33,782
राजीव कुमार राय (सपा) 1,65,887
सपा और बसपा को मिलाकर-3,99,669
फायदा: महागठबंधन

सलेमपुर(2014)
विजेता- रविंद्र कुशवाहा (भाजपा) 3,92,213
रवि शंकर सिंह ‘पप्पू’ (बसपा)1,59,871
हरिवंश सहाई कुशवाहा (सपा) – 1,59,788
सपा और बसपा मिलाकर-3,19,559
फायदा: भाजपा

बलिया(2014)
विजेता: भरत सिंह (भाजपा) 3,59,758
विरेंद्र कुमार पाठक (बसपा) 1,41,684
नीरज शेखर (सपा) 2,20,324
सपा और बसपा मिलाकर-3,62,008
फायदा : महागठबंधन

गाजीपुर(2014)
विजेता: मनोज सिन्हा (भाजपा) 3,06,929
कैलाश नाथ सिंह यादव (बसपा) 2,41,845
श्रीमती शिवकन्या कुशवाहा (सपा) 2,74,477
सपा और बसपा को मिलाकर-5,16,322
फायदा : महागठबंधन

चंदौली(2014)
विजेता- डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय (भाजपा) 4,14,135
अनिल कुमार मौर्या (बसपा) 2,57,379
रामकिशुन (सपा) 2,04,145
सपा और बसपा मिलाकर-4,61,524
फायदा : महागठबंधन

वाराणसी(2014)
विजेता- नरेंद्र मोदी (भाजपा) 5,81,022
अरविंद केजरीवाल (आप) 2,09,238
अजय राय (कांग्रेस) 75,614
कैलाश चौरसिया (सपा) 45,291
विजय प्रकाश जयसवाल (बसपा) 60,579
सपा और बसपा को मिलाकर-1,05,870
फायदा भाजपा

मिर्जापुर(2014)
विजेता- अनुप्रिया पटेल (अपना दल) 4,36,536
समुद्र बिंद (बसपा) 2,17,457
सुरेंद्र सिंह पटेल (सपा) 1,08,859
ललितेश पति त्रिपाठी (कांग्रेस)1,52,666
सपा और बसपा के मिलाकर-3,26,316
फायदा : राजग

राबर्ट्सगंज(2014)
विजेता: छोटेलाल (भाजपा) 3,78,211
पकौड़ी लाल कौल (सपा) 1,35,966
शरद प्रसाद (बसपा) 1,87,725
सपा और बसपा को मिलाकर: 3,23,691
फायदा : भाजपा