नयी दिल्ली: केंद्रीय मंत्री और भाजपा की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के प्रमुख राम विलास पासवान ने बुधवार को विपक्ष को ‘हारा हुआ’ बताते हुए दावा किया कि वीवीपैट को लेकर उनकी हताशा लोकसभा चुनावों में उनकी हार का संकेत है. उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि उनके बेटे चिराग पासवान में केंद्रीय मंत्री बनने की सभी क्षमताएं हैं.

कौन बनेगा देश का प्रधानमंत्री, जानिए क्या है वाराणसी के ज्योतिषियों की राय

उन्होंने कहा कि मैं कई महीनों से कह रहा हूं कि विपक्ष जब हार की तरफ बढ़ता है तो वह ईवीएम की शिकायत शुरू कर देता है. जो लोग ईवीएम का विरोध कर रहे हैं, वह भारत को समय से पीछे ले जाना चाहते हैं जहां धन और बाहुबल से चुनावों का फैसला होता था. सर्वोच्च अदालत पहले ही इस मुद्दे पर चार बार सुनवाई कर चुका है. वे आसन्न हार को देखते हुए मनगढ़ंत कहानियां गढ़ रहे हैं. लोकसभा चुनावों के नतीजों से पहले मंगलवार को 22 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से मुलाकात की और गुरुवार को होने वाली मतगणना से पहले बिना किसी क्रम के चुने गए मतदान केंद्रों के वीवीपैट के सत्यापन की मांग की.

अमित शाह का EVM पर सवाल उठाने वाली पार्टियों पर हमला, पूछे छह सवाल

जीते तो ईवीएम ठीक, हारे तो खराब
निर्वाचन आयोग ने बुधवार को इस मांग को खारिज कर दिया था. पासवान ने कहा कि जब आप जीतते हैं, ईवीएम ठीक है. लेकिन जब आप हारते हैं, ईवीएम से छेड़छाड़ के आरोप बढ़ जाते हैं. विपक्ष का ऐसा निराशावादी रवैया संविधान और भारतीय लोकतंत्र को आहत करेगा.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com