नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के लिए मतदान का दो महीने लंबा कालक्रम रविवार की शाम 6 बजे समाप्त हो जाएगा. लोकसभा चुनाव के सातवें और आखिरी चरण का मतदान रविवार को हो रहा है. लेकिन देशभर में मतदान समाप्ति से ज्यादा लोगों की नजरें इस बात पर टिकी हैं कि चुनाव के बाद होने वाले सर्वे यानी एक्जिट पोल (Exit Poll) के पूर्वानुमान क्या कहते हैं. विभिन्न टीवी चैनलों और समाचार माध्यमों के जरिए रविवार की शाम 6 बजे के बाद प्रसारित होने वाले Exit Poll के इन आंकड़ों को 23 मई की मतगणना से पहले के अनुमानित नतीजों के रूप में देखा जा रहा है. निर्वाचन आयोग के नियमों के अनुसार, चुनाव के सभी चरणों के मतदान की समाप्ति के बाद ही Exit Poll का प्रसारण किया जा सकता है. इसी के तहत रविवार की शाम Exit Poll के अनुमानित आंकड़े दिखाए जाएंगे. हालांकि लोकसभा चुनाव में किस पार्टी या गठबंधन को बहुमत मिलता है और किस पार्टी को केंद्र में सरकार बनाने का मौका मिलता है, इसका पता 23 मई को मतगणना के बाद ही चलेगा.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

रविवार को देश की 59 लोकसभा सीटों के लिए मतदान हो रहे हैं. निर्वाचन आयोग के नियमों के मुताबिक मतदान की समाप्ति के आधे घंटे के बाद ही Exit Poll का प्रसारण किया जा सकता है. इसलिए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण करने वाली विभिन्न एजेंसियों या समाचार माध्यमों को भी Exit Poll का प्रसारण शाम 6.30 बजे के बाद ही करने का आदेश दिया गया है. चुनाव के बाद Exit Poll का प्रसारण करने वाली एजेंसियों और समाचार माध्यमों में एबीपी-सीएसडीएस (ABP-CSDS), टुडे-चाणक्य (Today’s Chanakya), रिपब्लिक-जन की बात (Republic-Jan Ki Baat), रिपब्लिक-सी वोटर (Republic-CVoter), न्यूजएक्स-नेता (NewsX-Neta), न्यूज 18-आईपीएसओएस (News18-IPSOS), इंडिया टुडे-एक्सिस (India Today-Axis) और टाइम्स नाऊ-सीएनएक्स (Times Now-CNX) शामिल हैं.

लोकसभा चुनाव ही नहीं, शेयर बाजार की दिशा भी तय करेगा एग्जिट पोल

इस बार के लोकसभा चुनाव में कुल 542 सीटों के Exit Poll के अनुमान आपको दिखाए जाएंगे. तमिलनाडु की वेल्लोर सीट पर चुनाव रद्द होने की वजह से 543 की जगह सिर्फ 542 सीटों के अनुमानों का ही प्रसारण किया जाएगा. सातवें चरण के चुनाव के बाद लोगों की सहज दिलचस्‍पी इस बात में है कि किस दल को कितनी सीटें मिलेंगी? खासकर लोग यह जानने के लिए उत्सुक होंगे कि चुनाव के बाद भाजपानीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) केंद्र की सत्ता दोबारा हासिल करेगी या कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) को जनता चुनने वाली है. इन सभी सवालों के जवाब Exit Poll में मिल सकते हैं.

वोटिंग के बीच अमरिंदर सिंह का चौंकाने वाला बयान, कहा- मुझे हटाकर पंजाब का CM बनना चाहते हैं सिद्धू

हालांकि अब तक के विभिन्न चुनावों में Exit Poll की जो भविष्‍यवाणियां हमारे सामने आई हैं, उनमें से सभी सही साबित नहीं होती हैं. लेकिन चुनावी विश्‍लेषकों के मुताबिक, Exit Poll के अनुमानों से चुनाव परिणाम की मोटा-मोटी तस्वीर जरूर जनता के सामने उभर कर आती है. साथ ही सियासी जानकारों और राजनेताओं को भी चुनाव के परिणाम को लेकर एक आईडिया मिल जाता है. दरअसल, एक्जिट पोल में सर्वे करने वाली एजेंसियां मतदान कर बूथ से निकलने वाले वोटरों से पूछती हैं कि उन्होंने किस पार्टी को वोट दिया है. वोटरों के जवाब के आधार पर Exit Poll के नतीजे तय किए जाते हैं. वोटरों का जवाब चुनाव का ट्रेंड, विभिन्न दलों के प्रति उनकी प्रतिबद्धता आदि पर निर्भर करता है. साथ ही ये एजेंसियां सभी वोटरों से सवाल-जवाब नहीं करतीं, बल्कि रैंडम सैंपलिंग के आधार पर कुछ वोटरों का मिजाज ही जान पाती हैं. इसलिए Exit Poll के नतीजों में अक्सर सही तस्वीर सामने नहीं आ पाती है.