नई दिल्ली. सोमवार को देश के 7 राज्यों की 51 लोकसभा सीटों पर मतदान शुरू हो गए हैं. लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण के तहत इन संसदीय क्षेत्रों में वोट डाले जा रहे हैं. इस चरण में कई ऐसी लोकसभा सीटें हैं, जिन पर देश की राजनीति के जाने-पहचाने चेहरे अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. पांचवें चरण के चुनाव में जिन दिग्गज नेताओं का भविष्य ईवीएम में बंद होने वाला है, उनमें केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी, केंद्रीय मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौर, जयंत सिन्हा, अर्जुन राम मेघवाल, कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद, भाजपा नेता राजीव प्रताप रूड़ी आदि शामिल हैं. आइए देखते हैं लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण के चुनाव में किन-किन वीआईपी सीटों पर मतदान हो रहे हैं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

उत्तर प्रदेश
लखनऊ – यहां से भाजपा के वरिष्ठ नेता और गृह मंत्री राजनाथ सिंह दूसरी बार लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की इस परंपरागत सीट को भाजपा का गढ़ माना जाता रहा है. मगर मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में बने सियासी समीकरण ने यूपी की इस महत्वपूर्ण सीट के चुनाव को उलझा दिया है. सपा-बसपा गठबंधन ने इस सीट पर राजनाथ सिंह के खिलाफ पूर्व भाजपा नेता शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा को उम्मीदवार बनाया है. वहीं, कांग्रेस के नेता प्रमोद कृष्णन भी यहां से खम ठोंक रहे हैं.

अमेठी – गांधी परिवार की विरासत समझी जाने वाली इस सीट पर एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का मुकाबला केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ हो रहा है. राहुल गांधी अमेठी के अलावा इस बार केरल के वायनाड से भी चुनाव लड़ रहे हैं. भाजपा का दावा है कि इस बार का चुनाव परिणाम चौंकाने वाला होगा. वहीं, कांग्रेस पार्टी के नेताओं को उम्मीद है कि हर बार की तरह इस लोकसभा चुनाव में भी अमेठी लोकसभा सीट का परिणाम उनके पक्ष में जाएगा.

रायबरेली – यूपी की अमेठी की तरह ही रायबरेली लोकसभा सीट का चुनाव भी काफी अहम माना जाता है. यह संसदीय सीट भी गांधी परिवार का परंपरागत क्षेत्र रही है. इस बार भी यहां से सोनिया गांधी कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रही हैं. उनके सामने भाजपा ने दिनेश प्रताप सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है. यूपी में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन ने प्रदेश की 78 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, लेकिन अमेठी और रायबरेली सीटों को छोड़ दिया है. इस कारण चुनाव विश्लेषकों को उम्मीद है कि यहां का चुनाव परिणाम भी कांग्रेस के पक्ष में जा सकता है. हालांकि 23 मई को मतगणना के बाद ही नतीजों का पता चलेगा.

झारखंड
कोडरमा – लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में झारखंड की 4 संसदीय सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. इनमें सबसे अहम हजारीबाग लोकसभा सीट है, जहां से केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. उनके खिलाफ कांग्रेस ने गोपाल साहू को चुनाव मैदान में उतारा है. वहीं, इस सीट पर तीसरा प्रत्याशी सीपीआई के भुवनेश्वर प्रसाद मेहता भी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

खूंटी – भाजपा के दिग्गज नेता कड़िया मुंडा की इस सीट से इस बार पार्टी ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा को चुनाव मैदान में उतारा है. कांग्रेस की तरफ से उनके खिलाफ कालीचरण मुंडा मैदान में हैं. भाजपा का गढ़ मानी जाने वाली इस सीट के चुनाव पर भी सियासी विशेषज्ञों की नजरें लगी हुई हैं.

राजस्थान
जयपुर ग्रामीण – राजस्थान की 12 लोकसभा सीटों पर पांचवें चरण के चुनाव हो रहे हैं. इनमें जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट काफी अहम मानी जा रही है, क्योंकि यहां से केंद्रीय मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौर भाजपा के टिकट पर दूसरी बार मैदान में हैं. उनके खिलाफ कांग्रेस की तरफ से पूर्व एथलीट कृष्णा पूनिया चुनाव में उतरी हैं.

बीकानेर – पूरे देश में बीकानेरी भुजिया के लिए मशहूर बीकानेर लोकसभा सीट पर केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं. पांचवें चरण के मतदान में इस सीट को भी काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. इस सीट पर कांग्रेस की तरफ से मदनगोपाल मेघवाल अपने विपक्षी उम्मीदवार को कड़ी टक्कर दे रहे हैं.

बिहार
हाजीपुर – बिहार में लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण के चुनाव के तहत 5 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. इनमें हाजीपुर लोकसभा सीट पर सबकी नजर है, क्योंकि यह सीट केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान से जुड़ी हुई है. पासवान ने इस बार यहां से अपने भाई पशुपति कुमार पारस को चुनाव मैदान में उतारा है. उनके खिलाफ महागठबंधन की तरफ से राजद नेता शिवचंद्र राम मैदान में हैं. सियासी समीकरणों की वजह से हाजीपुर सीट का चुनाव काफी रोचक हो गया है.

सारण – बिहार की इस सीट पर भाजपा के मौजूदा सांसद राजीव प्रताप रूड़ी एक बार फिर चुनावी मैदान में खम ठोंक रहे हैं. उनके खिलाफ राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के समधी चंद्रिका राय महागठबंधन की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं. बिहार की राजनीतिक स्थिति को देखते हुए सारण सीट के चुनाव पर भी देशभर की नजरें लगी हुई हैं.