Lok Sabha Election Result 2019: लोकसभा की 542 सीटों पर हुए चुनाव के बाद बृहस्पतिवार को हुई मतगणना के आधार पर चुनाव आयोग को रात नौ बजे तक 243 सीटों के ही चुनाव परिणाम मिल सके. वहीं, 299 सीटों पर मतगणना पूरी होने के इंतजार में इन सीटों का परिणाम प्रतीक्षारत थे. लोकसभा की 543 सीट में से 542 पर ही मतदान हुआ था. तमिलनाडु की वेल्लोर सीट पर मतदान से पहले ही धनबल के इस्तेमाल को देखते हुये चुनाव आयोग ने इस सीट पर अनिश्चितकाल के लिये मतदान स्थगित कर दिया था.

Lok Sabha Election Results: मेरे समय का पल-पल, मेरे शरीर का कण-कण देशवासियों के नाम : पीएम मोदी

चुनाव आयोग की चुनाव परिणाम संबंधी ऑनलाइन सेवा के मुताबिक रात दस बजे तक घोषित 243 सीटों के परिणाम के मुताबिक सत्तारूढ़ भाजपा को सर्वाधिक 146 सीटें मिल चुकी थी. पार्टी ने 157 सीटों पर निर्णायक बढ़त बना ली थी. चुनाव परिणाम के रुझानों को देखते हुये भाजपा की झोली में गयी सीटों और बढ़त वाली सीटों को मिलाकर पार्टी को 303 सीट मिलने का अनुमान है. वहीं मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को सिर्फ 29 सीट पर जीत मिल सकी और 22 सीट पर पार्टी ने बढ़त बना ली थी.

Lok Sabha Election Result 2019: 18 राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों में कांग्रेस का कोई सांसद नहीं, 8 पूर्व CM तक हारे

इस लिहाज से कांग्रेस को अधिकतम 51 सीट मिलने की संभावना है. उल्लेखनीय है कि मौजूदा लोकसभा में कांग्रेस के पास 44 सीटें थी. आयोग द्वारा घोषित चुनाव परिणाम और रुझान के मुताबिक श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले क्षेत्रीय दलों में पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस, तमिलनाडु में द्रमुक और आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस शामिल हैं. तृणमूल कांग्रेस सात सीट जीत कर 15 पर बढ़त बनाये हुये है. वहीं द्रमुक 16 सीट पर निर्णायक बढ़त बनाते हुये सात सीटें जीत गयी है और वाईएसआर कांग्रेस 22 सीट पर आगे चल रही है.

स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को 38000 वोटों से हराया, अमेठी में टूट गया गांधी परिवार का तिलिस्म

सत्तारूढ़ राजग के सहयोगी दल शिवसेना ने आठ सीट पर विजय प्राप्त कर 10 सीट पर बढ़त बनायी हुयी है वहीं बिहार में जदयू ने सात सीट जीत ली हैं. जदयू के उम्मीदवार नौ सीट पर आगे चल रहे हैं. उत्तर प्रदेश में सपा बसपा गठबंधन के लिये चुनाव परिणाम उम्मीद के मुताबिक नहीं रहे. चुनाव के रुझान के मुताबिक सपा को सिर्फ पांच और बसपा को दस सीट पर संतोष करना पड़ेगा. इसी प्रकार दिल्ली में सत्तारूढ़ आप राष्ट्रीय राजधानी की सभी सात सीटों पर भाजपा के मुकाबले निर्णायक हार की ओर बढ़ चुकी थी. आप को पंजाब में सिर्फ एक सीट से संतोष करना पड़ेगा.