अगरतला: त्रिपुरा में पश्चिम त्रिपुरा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए कुल 13,47,381 मतदाताओं ने 78 फीसदी से ज्यादा मतदान किया. एक चुनाव अधिकारी ने कहा कि सभी जिला मजिस्ट्रेटों (जिला निर्वाचन अधिकारियों) से अंतिम रिपोर्ट मिलने के बाद चुनाव प्रतिशत में बढ़ोतरी हो सकती है. 2014 में त्रिपुरा में 85 प्रतिशत मतदान हुआ था.एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि सेपाहिजाला जिले के चारिलाम में कांग्रेस और बीजेपी के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प को छोड़कर कोई बड़ी घटना नहीं हुई. पुलिस प्रवक्ता सुब्रत चक्रवर्ती ने कहा कि इस घटना में दस लोग घायल हो गए. चक्रवर्ती ने बताया, “कुछ स्थानों पर, लोगों ने मतदाताओं को मतदान से रोकने की कोशिश की, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें नाकाम कर दिया.”

चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बताया कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) और वोटर वैरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) मशीनों की खराबी के कारण कुछ मतदान केंद्रों पर मतदान प्रक्रिया अस्थायी रूप से प्रभावित हुई. त्रिपुरा के दो संसदीय क्षेत्रों में से एक के लिए मतदान सुबह सात बजे भारी सुरक्षा के बीच शुरू हुआ और शाम पांच बजे आधिकारिक रूप से समाप्त हो गया.

चुनाव अधिकारी ने कहा, “हालांकि कई मतदाता विभिन्न जिलों में मतदाता केंद्रों के बाहर पांच बजे के बाद भी कतारों में खड़े थे.” कुल 13,47,381 मतदाता चुनावी मैदान में उतरे 13 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे. कुल 1,679 मतदान केंद्र बनाए गए हैं जिनमें 30 का प्रबंध केवल महिला मतदान अधिकारियों और सुरक्षा कर्मियों द्वारा किया जा रहा है.

मुख्य मुकाबला बीजेपी उम्मीदवार 50 वर्षीय प्रतिमा भौमिक, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के उम्मीदवार शंकर प्रसाद दत्ता (61) और सुबल भौमिक (58) के बीच है, जिन्होंने (सुबल) भाजपा के उपाध्यक्ष पद को छोड़ दिया था और पिछले महीने कांग्रेस के उम्मीदवार बनाए गए थे.