नई दिल्ली: पाटीदार कोटा आंदोलन नेता हार्दिक पटेल ने रविवार को कहा कि वह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में 12 मार्च को पार्टी में शामिल होंगे. कांग्रेस 12 मार्च को यहां अपनी कार्य समिति की बैठक करने जा रही है,जिसके बाद पार्टी गांधीनगर के अदालाज में एक रैली करेगी. हालांकि, पटेल की लोकसभा चुनाव लड़ने की योजना तभी सफल होगी, जब वह कानूनी बाधाओं को पार कर लेंगे. चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से 19 मई तक सात चरणों में कराने की रविवार शाम घोषणा कर दी. मतगणना 23 मई को होगी.

गौरतलब है कि पटेल को 2015 के पाटीदार कोटा आंदोलन से जुड़े एक दंगे के मामले में दोषी ठहराते हुए दो साल की कैद की सजा सुनाई गई थी. यह (दोषसिद्धि और दो साल या इससे अधिक की सजा) उन्हें चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित करती है.पटेल ने रविवार को ट्वीट किया, ‘समाज और देश की सेवा करने के अपने मकसद को साकार करने के लिए मैंने 12 मार्च को राहुल गांधी और कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में पार्टी (कांग्रेस में) शामिल होने का निर्णय किया है.’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘मैं यह भी कहना चाहता हूं कि यदि कोई कानूनी अड़चन नहीं आई और पार्टी ने मुझे चुनाव में उतारने का फैसला किया तो मैं पार्टी के फैसले का पालन करूंगा. मैं भारत के 125 करोड़ नागरिकों की सेवा करने के लिए यह कदम उठा रहा हूं. गौरतलब है कि पिछले साल जुलाई में मेहसाना जिला की एक सत्र अदालत ने पटेल को दंगा और आगजनी के मामले में दो साल की कैद की सजा सुनाई थी. यह घटना जिले के विसनगर कस्बे में 2015 में हुई थी. हालांकि, उनकी कैद की सजा पर अदलत ने रोक लगा दी लेकिन उनकी दोषसिद्धि निलंबित नहीं की गई.

पटेल ने निचली अदालत द्वारा खुद को दोषी करार दिए जाने के खिलाफ गुजरात उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर रखी है. शुक्रवार को पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पीएएएस) ने पटेल को कांग्रेस में शामिल होने के लिए हरी झंडी दिखा दी थी. इससे पहले, पटेल ने संकेत दिया था कि वह जामनगर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं.

कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख अमित चावडा ने कहा कि पटेल के पार्टी में शामिल होने से यह (पार्टी) मजबूत होगी. उन्होंने कहा, ‘‘अब तक हार्दिक एक सामाजिक आंदोलन का नेतृत्व कर रहे थे. अब वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हो रहे हैं, इससे गुजरात में पार्टी मजबूत होगी. वहीं, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि इस फैसले ने साबित कर दिया है कि इस पाटीदार नेता को कांग्रेस ने ही खड़ा किया है. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हम यह कहते आ रहे हैं और अब यह साबित हो गया है कि हार्दिक को कांग्रेस ने ही खड़ा किया है.