कोलकाता: लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गई हैं. संसदीय सीट के मामले में देश के तीसरे सबसे बड़े राज्य पश्चिम बंगाल में तो सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. इस राज्य में पूरे सात चरण में मतदान होंगे. खास बात यह है कि 2014 के चुनाव में जबर्दस्त प्रदर्शन करने वाली तृणमूल कांग्रेस ने इस बार अपने 10 मौजूदा सांसदों के टिकट काट दिए हैं. इतना ही नहीं पार्टी ने इस बार 40.5 फीसदी महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. इस हिसाब से 42 में से 17 सीटों के लिए महिला उम्मीदवार हैं. यह अपने आप में अन्य पार्टियों के लिए मिसाल बन सकता है. गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल के पड़ोसी राज्य ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी राज्य में 33 फीसदी सीटों पर महिला उम्मीदवार उतारने की घोषणा की है.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को राज्य में लोकसभा की सभी 42 सीटों के लिए तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवारों की सूची जारी की. उन्होंने भाजपा और मोदी सरकार पर हमला करते हुए दावा किया कि उनके पास ऐसी सूचनाएं हैं कि ‘वीवीआईपी’ मतदाताओं को घूस देने के लिए हेलिकॉप्टरों और चार्टर्ड विमानों के जरिए धन पहुंचा रहे हैं .

सूची जारी करते हुए बनर्जी ने राफेल सौदे, कृषि संकट और रोजगार के घटते अवसरों सहित विभिन्न मुद्दों पर केंद्र पर हमला किया. तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो बनर्जी ने कहा कि सूची में पार्टी के जिन सांसदों के नाम नहीं हैं, उन्हें पार्टी के काम में लगाया जाएगा. उन्होंने कहा कि सूची में 40.5 प्रतिशत उम्मीदवार महिलाएं हैं. उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस ओडिशा, असम, झारखंड, बिहार और अंडमान में कुछ सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

(इनपुट-भाषा)