मुंबई: भाजपा ने मुंबई उत्तर पूर्व लोकसभा सीट से वर्तमान सांसद किरीट सोमैया का बुधवार को टिकट काट दिया. उन्हें इस सीट से फिर से संभावित उम्मीदवार माना जा रहा था, लेकिन उनकी पुन: उम्मीदवारी का गठबंधन सहयोगी शिवसेना की ओर से कड़ा विरोध हो रहा था. भाजपा ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के आलोचक सोमैया की जगह बृहन्मुंबई महानगरपालिका के पार्षद मनोज कोटक को टिकट दिया है. कोटक की उम्मीदवारी सोमैया को बड़ा झटका है जो पहले ही इस सीट पर चुनाव लड़ने की तैयारियां शुरू कर चुके थे. शिवसेना के नेता अपने पार्टी प्रमुख के खिलाफ टिप्पणियों के चलते सोमैया की पुन: उम्मीदवारी के विरोध में थे.

किरीट सोमैया ने कहा कि बहुत खुश हूं कि मनोज कोटक जी को टिकट मिली है मेरे साथ खड़े हैं . हम उन्‍हें सपोर्ट करेंगे और सुनिश्‍च‍ित करेंगे कि वह जीते. हमारा अंतिम उदेश्‍य मोदी जी का दूसरा कार्यकाल है. पार्टी के अंदर जिम्‍मेदारियां बदलती रहती हैं. इसमें नया कुछ भी नहीं है. सोमैया को टिकट न मिलने पर टिप्पणी करते हुए बीजेपी के प्रवक्ता माधव भंडारी ने कहा कि उम्मीदवार उतारने से संबंधित सभी फैसले पार्टी के केंद्रीय संसदीय बोर्ड द्वारा किए जाते हैं.

नगर निकाय में भाजपा के वरिष्ठ नेता कोटक एनसीपी के उम्मीदवार एवं पूर्व सांसद संजय दीना पाटिल का मुकाबला करेंगे, जो 2014 में सोमैया से हार गए थे. भाजपा महानगर की छह सीटों में से तीन सीटों पर लड़ रही है और सोमैया यहां एकमात्र भाजपा सांसद हैं जिनका टिकट कटा है. शेष तीन सीटों पर भाजपा की गठबंधन सहयोगी शिवसेना चुनाव लड़ रही है.

साल 2017 में भाजपा और शिवसेना ने जब बीएमसी चुनाव अलग-अलग लड़ा था तो सोमैया ने अपनी एक टिप्पणी में ”बांद्रा का माफिया” शब्द का इस्तेमाल किया था. उनकी इस टिप्पणी को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे पर केंद्रित माना गया था जो मुंबई के बांद्रा स्थित अपने आवास मातोश्री में रहते हैं.

शिवसेना कार्यकर्ताओं ने धमकी दी थी कि यदि सोमैया को मुंबई उत्तर पूर्व निर्वाचन क्षेत्र से दोबारा उम्मीदवार बनाया गया, तो वे भाजपा के लिए प्रचार नहीं करेंगे. उद्धव की पार्टी के विधायक सुनील राउत ने घोषणा की थी कि यदि सोमैया को दोबारा टिकट दिया गया तो वह उनके खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ेंगे.