रायपुर: लोकसभा चुनाव 2019 में बुरी तरह हारने के बावजूद छत्तीसगढ़ कांग्रेस नक्सल प्रभावित बस्तर सीट की जीत से काफी संतुष्ट और खुश है. कांग्रेस अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित इस सीट से पहली बार संसदीय चुनाव जीती है. इस सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दीपक बैज ने भाजपा के बैदुराम कश्यप को 38,982 वोटों के अंतर से हराया है. राहुल गांधी छत्तीसगढ़ में कई बार चुनाव प्रचार करने पहुंचे थे. Also Read - कोरोना के बीच CBSE कराएगा एग्जाम, प्रियंका गांधी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से कहा- ये चौंकाने वाला फैसला, परीक्षाएं रद्द हों

Also Read - Assam Assembly Election 2021: चुनाव के नतीजों से पहले ही कांग्रेस और AIUDF ने अपने उम्मीदवारों को भेजा राजस्थान

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को आशा थी कि वह विधानसभा चुनावों का प्रदर्शन दोहराएगी और 11 संसदीय सीटों में से ज्यादातर उसके हिस्से में आएंगी. पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 15 साल के भाजपा शासन को खत्म कर प्रदेश में सरकार बनायी थी, लेकिन आशा के विपरीत राज्य की 11 संसदीय सीटों में से कांग्रेस के हिस्से में सिर्फ दो… कोरबा और बस्तर आयी हैं. अन्य नौ भाजपा के हिस्से में गयी हैं. अगर लोकसभा चुनावों की बात करें तो पिछले चार चुनावों में यह कांग्रेस का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. इससे पहले के तीन संसदीय चुनावों में कांग्रेस के खाते में सिर्फ एक सीट मिली थी. Also Read - बंगाल को पहले कांग्रेस ने रौंदा, कम्युनिस्टों ने लूटा, अब TMC की गुंडागर्दी से बदहाल है: रैली में बोले CM योगी

RJD की बुरी हार के बाद जेल में लालू प्रसाद यादव की तबियत बिगड़ी, ठीक से नहीं खा रहे खाना

राज्य कांग्रेस के प्रवक्ता शैलेष नितिन त्रिवेदी ने पीटीआई से कहा, ‘हमने आदिवासी उम्मीदवारों के लिए सुरक्षित बस्तर और कांकेर सीटों पर अच्छा प्रदर्शन किया. यह दीगर है कि हम सिर्फ बस्तर सीट ही जीत सके, और महज 6,917 वोटों के अंतर से कांकेर हार गए. मोदी लहर के बावजूद कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ में सीटों की संख्या बढ़ाकर दो कर ली है.’ उन्होंने कहा, ‘यह महत्वपूर्ण है कि पार्टी ने नवंबर 2000 में छत्तीसगढ़ के गठन के बाद पहली बार सुरक्षित लोकसभा सीट जीती है.’ गौरतलब है कि बस्तर चुनावों से पहले नक्सलवादियों ने भाजपा विधायक भीमा मांडवी और चार सुरक्षाकर्मियों की हत्या कर दी थी.