भोपाल: सोशल मीडिया में महात्मा गांधी को ‘पाकिस्तान का राष्ट्रपिता’ बताने वाली टिप्पणी को पार्टी के सिद्धांत के खिलाफ मानते हुए मध्य प्रदेश भाजपा ने पार्टी के नेता अनिल सौमित्र को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है. मध्य प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर ने शुक्रवार को जारी बयान में बताया कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने मीडिया सम्पर्क विभाग के प्रदेश संयोजक अनिल सौमित्र को तत्काल प्रभाव से पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है.

 

पाराशर ने बताया कि राकेश सिंह ने यह कार्रवाई सौमित्र द्वारा सोशल मीडिया पर पार्टी के आचार, विचार और सिद्वांत के विरूद्व जाकर की गई टिप्पणी को घोर अनुशासनहीनता मानते हुए की है. सौमित्र से 7 दिवस के भीतर स्पष्टीकरण देने को कहा गया है. सौमित्र ने बृहस्पतिवार रात को फेसबुक पर लिखे एक पोस्ट में कहा था कि राष्ट्रपिता थे, लेकिन पाकिस्तान के. भारत राष्ट्र में तो उनके जैसे करोड़ों पुत्र हुए. कुछ लायक तो कुछ नालायक. पार्टी की कार्रवाई के बाद सौमित्र ने कहा कि पाकिस्तान की जो संकल्पना है, अंग्रेजों ने उसकी रणनीति बनाई और नेहरू और जिन्ना को उसका प्रणेता बनाया. नेहरू और जिन्ना को प्रधानमंत्री बनने की जल्दी थी, इसलिए उन्होंने अखंड भारत के दो टुकड़े किए और इस पूरी प्रक्रिया को गांधी जी का आशीर्वाद था. चूंकि गांधी जी के आशीर्वाद से पाकिस्तान का निर्माण हुआ इसलिए हमने कहा कि अगर हो सकते हैं तो वो पाकिस्तान के राष्ट्रपिता हो सकते हैं. भारत सनातन काल से एक राष्ट्र है, इसलिए ऋषि मुनि इसके पुत्र हो सकते हैं, पिता कोई नहीं हो सकता. फादर ऑफ दि नेशन एक यूरोपीय अवधारणा है, इसका तर्जुमा कर दिया. गांधी जी इसके एक अच्छे सुपुत्र हो सकते हैं. लेकिन भारत का राष्ट्रपिता ज्ञात इतिहास में कोई नहीं हैं.

एग्जिट पोल के नतीजे से पहले शेयर बाजार में जोरदार तेजी, सेंसेक्स 537 अंक उछला

प्रज्ञा ठाकुर ने भी दिया था विवादित बयान
सौमित्र की यह पोस्ट भोपाल लोकसभा से भाजपा की उम्मीदवार और मालेगांव बम धमाके की आरोपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वाले विवादित बयान के बाद आई. गौरतलब है कि देवास लोकसभा सीट पर 19 मई को होने वाले चुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में आगर मालवा में रोड शो कर रही प्रज्ञा ने एक सवाल के जवाब में स्थानीय न्यूज चैनल से बृहस्पतिवार को कहा था कि नाथुराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे. गोडसे को आतंकी बोलने वाले खुद के गिरेबां में झांक कर देखें. अबकी बार चुनाव में ऐसा बोलने वालों को जवाब दे दिया जाएगा.

जब तक मोदी और BJP है, तब तक आदिवासी लोगों की भूमि को कोई हाथ नहीं लगा सकता: पीएम

प्रज्ञा ने माफी मांगते हुए कहा-मैं गांधीजी का करती हूं सम्मान
हालांकि, इसके कुछ ही घंटों बाद प्रज्ञा ने अपने इस बयान पर देश के लोगों से माफी मांगते हुए कहा था कि मैं गांधी जी का बहुत सम्मान करती हूं. गांधी जी ने जो देश के लिए किया है उसे भुलाया नहीं जा सकता. जो पार्टी की लाइन है, भाजपा का निष्ठावान कार्यकर्ता होने के नाते मेरी भी वही लाइन है जो पार्टी की लाइन है.’ प्रज्ञा वर्ष 2008 में हुए मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी है और फिलहाल जमानत पर है.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com