नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हो रही हैं. खासकर, उत्तर प्रदेश में जहां सपा-बसपा गठबंधन के बाद राजनीति रोज नए करवट ले रही है, भाजपा राज्य के विभिन्न सीटों पर उम्मीदवार तय करने में सावधानी बरत रही है. यही वजह है कि केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी लंबे अर्से से जिस पीलीभीत संसदीय सीट से चुनाव लड़ती और जीतती आ रही हैं, इस बार अपने बेटे वरुण गांधी के लिए यह क्षेत्र छोड़ने का विचार कर रही हैं. सूत्रों के अनुसार, खबर है कि मेनका गांधी इस बार के लोकसभा चुनाव में सिर्फ पीलीभीत ही नहीं छोड़ेंगी, बल्कि वह उत्तर प्रदेश से निकलकर दूसरे राज्य से चुनाव लड़ने का विचार कर रही हैं. जी हां, मेनका गांधी इस लोकसभा चुनाव में संभवतः हरियाणा से चुनाव लड़ सकती हैं. वहीं, उनके बेटे वरुण गांधी भी अपनी सीट से लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे. हालांकि अभी इन खबरों के बारे में कहा जा रहा है कि मेनका गांधी के विचार पर अंतिम निर्णय भाजपा आलाकमान ही लेगा.

भाजपा वरुण गांधी को उनकी सीट सुल्तानपुर की जगह पीलीभीत से चुनाव लड़वा सकती है. चुनाव से महज महीनेभर पहले वरुण गांधी की सीट बदलने का विचार यूं ही नहीं आया है. दरअसल, वरुण गांधी को सुल्तानपुर के बजाये पीलीभीत से चुनाव लड़ाने के विचार के पीछे जो आशंका है, वह संभवतः महागठबंधन द्वारा पैदा की गई राजनीतिक स्थिति है. सुल्तानपुर अमेठी के निकट स्थित है और यहां से उनके चचेरे भाई और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव लड़ते हैं. सूत्रों के मुताबिक यह सुझाव मेनका द्वारा उन आशंकाओं के बीच दिया गया जिनके मुताबिक वरुण को कांग्रेस के कद्दावर उम्मीदवार से शिकस्त मिल सकती है. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री हो सकता है खुद हरियाणा के करनाल से चुनाव लड़ें.

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से 19 मई के बीच सात चरणों में होने हैं और नतीजों का एलान 23 मई को किया जाएगा. चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच लोकसभा चुनाव के लिए सीटों का बंटवारा हो चुका हैं. गोरखपुर और फूलपुर संसदीय सीटों पर हुए लोकसभा उपचुनाव में सपा-बसपा के गठबंधन उम्मीदवारों की जीत के बाद, आगामी चुनावों के लिए भाजपा काफी सजग और सतर्कता से कदम उठा रही है. यही वजह है कि मेनका गांधी द्वारा पीलीभीत सीट छोड़कर हरियाणा जाने और वरुण गांधी को उनकी सीट पर चुनाव लड़ाने के विचार को सियासी जानकार महागठबंधन द्वारा पैदा की गई स्थिति बता रहे हैं.

(इनपुट – एजेंसी)