लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019(Lok Sabha Election 2019) के छठवें चरण का प्रचार आज खत्म होने जा रहा है. इस दौरान नेताओं के बयान और आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला भी अपने चरम पर है. ऐसे ही एक बयान के खिलाफ बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. बसपा सुप्रीमो ने कहा कि मोदी ने गठबंधन पर जातिवादी होने का जो आरोप लगाया है, वह हास्यास्पद व अपरिपक्व है. Also Read - Abhyudaya Yojana: UP की योगी सरकार 10 लाख युवाओं को देगी फ्री में टैबलेट, कैसे मिलेगा, जानें यहां पूरी डिटेल

Also Read - Narendra Modi Stadium: अब नरेंद्र मोदी स्टेडियम कहलाएगा मोटेरा स्टेडियम, स्पोर्ट्स एन्क्लेव का नाम सरदार पटेल के नाम पर

  Also Read - Kerala Assembly Elections 2021: मेट्रो मैन श्रीधरन के बाद अब भाजपा में शामिल होंगी PT Usha, जानें क्या है भाजपा की मंशा

उन्होंने शुक्रवार को ट्विटर पर लिखा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने अब और कुछ नहीं तो गठबंधन पर जातिवादी होने का जो आरोप लगाया है वह हास्यास्पद व अपरिपक्व है. जातिवाद के अभिशाप से पीड़ित लोग जातिवादी कैसे हो सकते हैं? श्री मोदी जन्म से ओबीसी नहीं हैं इसीलिए उन्होंने जातिवाद का दंश नहीं झेला है और इसलिए वह ऐसी मिथ्या बातें करते हैं.

 

मायावती का हमला, कहा-पिछड़ों के वोट बांटने को BJP ने सपा प्रमुख के घर में भी डाली ‘डकैती’

इसके अलावा उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि मोदी जी अपने को जबर्दस्ती पिछड़ा बनाकर राजनीतिक स्वार्थ के लिए जातिवाद का खुलकर इस्तेमाल करते हैं, वे अगर जन्म से पिछड़े होते तो क्या आरएसएस उन्हें कभी भी प्रधानमंत्री बनने देता? वैसे भी श्री कल्याण सिंह जैसों का आरएसएस ने क्या बुरा हाल किया है, क्या यह देश नहीं देख रहा है.

सटोरियों की नजर में बहुमत से काफी दूर रह जाएगा NDA, यूपी में मिल सकती हैं केवल इतनी सीटें

पीएम मोदी ने ये दिया था भाषण

गौरलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक जनसभा के दौरान सपा-बसपा को ‘महामिलावटी’ करार देते हुए कहा कि इन पार्टियों का एक ही मंत्र है, ‘जात-पात जपना, जनता का माल अपना. (इनपुट एजेंसी)

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com