श्रीनगर: पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने की वकालत करने के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली पर पलटवार करते हुए शनिवार को कहा कि संविधान के अनुच्छेद 370 को यदि खत्म किया गया तो भारत संघ और राज्य के बीच संबंध समाप्त हो जाएगा. महबूबा ने यहां अपने आवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा, ‘‘जेटली को यह समझना चाहिए. यह कहना आसान नहीं है. यदि आप (अनुच्छेद) 370 खत्म करते हैं तो जम्मू कश्मीर के साथ आपके संबंध समाप्त हो जाएंगे.’’ Also Read - कश्मीर में लश्कर-ए-तैयबा के ठिकानों का हुआ भांडाफोड़, भारी मात्रा में गोली-बारूद बरामद

जेटली ने बृहस्पतिवार को जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने की वकालत करते हुए कहा था कि अनुच्छेद 35ए जो जम्मू-कश्मीर में गैर-स्थायी निवासियों को संपत्ति खरीदने पर रोक लगाता है वह ‘‘संवैधानिक रूप से दोषपूर्ण’ है और राज्य के आर्थिक विकास को बाधित कर रहा है. Also Read - 15 अगस्त के बाद जम्मू-कश्मीर में बहाल की जाएगी 4जी इंटरनेट सेवा, जानिए कैसे पूरी होगी प्रक्रिया

कोर्ट ने कहा- पत्नी को भत्ता दो, एक्टर बोला- कांग्रेस सरकार बनने पर ‘आय स्कीम’ के रुपए मिलने पर दूंगा Also Read - जम्मू-कश्मीरः रामबन में अतिक्रमण हटाने गए वन विभाग और पुलिस कर्मियों पर पथराव, 18 कर्मचारी घायल

महबूबा ने कहा कि अनुच्छेद 370 भारत संघ और राज्य के बीच एक सेतु है और यदि संविधान के विशेष प्रावधान को खत्म किया गया तो नयी दिल्ली को जम्मू कश्मीर के साथ अपने संबंध ‘‘फिर से बातचीत करके तय करने होंगे’’. उन्होंने कहा, ‘‘यदि आपने भारत के संविधान में हमें एक विशेष दर्जा दिया है और आप उस दर्जे को तोड़ते हैं तब हमें पुनर्विचार करना होगा कि क्या हम आपके साथ बिना शर्त रहना भी चाहते हैं या नहीं.’’

इससे पहले नेशनल कान्फ्रेंस के नेता मोहम्मद अब्दुल्ला वानी और अवामी इंसाफ पार्टी प्रमुख गुलाम अहमद शेख सलूरा अपने समर्थकों के साथ पीडीपी में शामिल हो गए. महबूबा और पार्टी संरक्षक मुजफ्फर हुसैन बेग ने वानी और सलूरा का पार्टी में स्वागत किया.