नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के परिणाम आने से दो सप्ताह पहले जी न्‍यूज (Zee News) को विशेष इंटरव्‍यू दिया. इसमें पीएम मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा उनके लिए कहे जाने वाले अपशब्दों को लेकर जवाब दिया. उन्होंने कहा कि मुझे दिक्कत ममता जी या तृणमूल कांग्रेस से नहीं है, लेकिन बंगाल की बर्बादी बहुत गंभीर समस्या है. ये देश के लिए खतरा है. इस तरह की सोच और व्यक्तित्व देश के संविधान के लिए खतरा है, ये सामान्य चीज नहीं है.

 

पीएम मोदी ने कहा कि मेरी छोड़िये, आप उन लोगों के बारे में बताइए, जिन लोगों के साथ ममता बनर्जी ने काम किया है, उनका हिसाब लगा लीजिए. ममता बनर्जी को पाकिस्तान के पीएम तो लगते हैं लेकिन मैं नहीं लगता. वह मेरी रैली को इजाजत नहीं देती हैं. सवाल पीएम या ममता नहीं है. यह उनकी संविधान पर अविश्‍वास की अभिव्‍यक्ति है. गुरुवार को जी न्‍यूज के एडिटर इन चीफ सुधीर चौधरी के साथ पीएम नरेंद्र मोदी ने शुद्ध राजनीतिक इंटरव्‍यू में हर सवाल का जवाब दिया.

चुनाव नतीजों को लेकर क्या पीएम मोदी के मन में है कोई शंका? जानें उनका जवाब

23 मई को देश में फिर बनेगी बीजेपी की सरकार
चुनाव परिणाम को लेकर पीएम मोदी ने दावा किया कि 23 मई को देश में फिर बीजेपी की सरकार बनेगी. उन्‍होंने कहा कि इस बार बीजेपी को 2014 से ज्‍यादा सीटें मिलेंगी. चुनाव परिणामों को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि विरोधी क्या सोच रहे हैं मुझे नहीं मालूम. उन्हें सपने देखने का हक है, वो ख्वाबों में खोए रहें, मेरी शुभकामनाएं. मैं पांच साल में दफ्तर में कैद नहीं था, जनता के बीच ही रहा. जीवंत संपर्क वाला व्यक्ति हूं. सारे अनुभवों के आधार पर कह रहा हूं कि जनता मजबूत, निर्णायक सरकार चाहती है.

मेरा काम बोल रहा है
2014 में देश की जनता के मन में एक कौतुहल था कि मोदी कौन है. 2019 तक उन्होंने मोदी को जाना है, समझा है. मेरा काम बोल रहा है. हमने राज्यों के साथ मिलकर ग्रास रूट पर विकास करने पर बल दिया. मेरा पक्का विश्वास है कि देश की जनता ने भारतीय जनता पार्टी को पहले से ज्यादा सीटें देना तय किया है, भाजपा के सहयोगी दलों को ज्यादा सीटें देने का तय किया है.

इस बार 2014 वाली लहर है?
देश की जनता बता देगी किसकी लहर है. 2014 में भी कुछ तो सीना ठोक कर कहते थे मोदी लहर नहीं है. भारत के लोकतंत्र, उसकी विशालता को लेकर दुनिया बहुत प्रसन्न है. हमें मिलकर विश्व में हमारे लोकतंत्र और चुनाव प्रक्रिया की ब्रांडिंग करनी चाहिए.