कुरनूल,महबूबनगर (आंध्र प्रदेश). आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में भाजपा के चुनाव प्रचार की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों पर निशाना साधा और पूर्व सहयोगी एन चंद्रबाबू नायडू को ‘यू टर्न बाबू’ करार दिया. साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ज्योतिषियों के प्रभाव में है. आंध्र प्रदेश की 25 लोकसभा सीट एवं तेलंगाना की 17 लोकसभा सीटों पर आम चुनाव के पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान होगा. आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी लोकसभा के साथ ही होंगे जहां नायडू की अगुवाई वाली तेदेपा सत्ता में है.

अमित शाह के भाषण में लालू की याद, कहा- महागठबंधन की सरकार आई तो आ जाएगा जंगलराज

नायडू पर भ्रष्टाचार और वंशवाद के आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 11 अप्रैल को चुनाव की तारीख से राज्य के विकास के ‘‘दोहरे इंजन’’ की शुरुआत होगी जब केंद्र और राज्य, दोनों स्थानों पर भाजपा की सरकार बनेगी.’’ प्रधानमंत्री ने आंध्र प्रदेश में नई राजधानी के निर्माण में भ्रष्टाचार को लेकर लगाए जा रहे आरोपों का उल्लेख किया. कुरनूल में एक रैली में मोदी ने हमलावर अंदाज में कहा, ‘‘आंध्र प्रदेश के लोगों को पता है कि किसकी झोली भर रही है…जब इस चौकीदार ने खातों के बारे में पूछा तो यू टर्न बाबू आंध्र प्रदेश के विकास से यू टर्न ले लिया और राजग से निकल गए.’’ नायडू ने पिछले साल मार्च में राजग के साथ गठबंधन तोड़ दिया था और केंद्र पर आरोप लगाया था कि वह राज्य को विशेष दर्जा दिए जाने के वादों का सम्मान नहीं कर रहा है.

कांग्रेस के साथ दोस्ती के लिए तेदेपा प्रमुख पर हमला बोलते हुए मोदी ने कहा कि नायडू को ऐसे मित्र मिले हैं जो जमानत पर हैं. प्रधानमंत्री का इशारा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी की ओर था जो नेशनल हेराल्ड मामले में जमानत पर हैं. नायडू पर पारिवारिक राजनीति के लिए हमला बोलने वाले मोदी ने कहा कि चुनाव में ‘‘सन सेट (पुत्र पराभव)’’ होते दिखना चाहिए. उन्होंने इस चुनाव में नये ‘ सन राइज (सूर्य उदय)’ का आह्वान किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और पूर्व सहयोगी एन चंद्रबाबू नायडू पर हमला बोलते हुए उन्हें ‘यू टर्न बाबू’ करार दिया और कहा कि उनकी ‘‘मंशा’’ राज्य के विकास की नहीं है.

उन्होंने तेलुगु देशम पार्टी प्रमुख चंद्र बाबू नायडू को केंद्रीय योजनाओं पर राज्य सरकार का ‘‘स्टीकर’’ चिपकाने का आरोप लगाया. मोदी ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से मैं और अधिक काम कर सकता था. मुझे बस राज्य सरकार के सहयोग की आवश्यकता थी. मैंने अपनी तरफ से सभी प्रयास किए, लेकिन जो व्यक्ति (नायडू) सरकार चला रहा है, उसका इरादा आंध्र प्रदेश का विकास नहीं है.’’ प्रधानमंत्री ने इससे पहले शुक्रवार को तेलंगाना के लोगों से कहा कि वे नए भारत के लिए मतदान करें और इससे राज्य के लोगों को भी फायदा होगा. इसके साथ ही मोदी ने कहा कि देश के नागरिक बिना किसी भय के आगे बढ़ रहे हैं क्योंकि चौकीदार सतर्क है. मोदी ने तेलंगाना के महबूब नगर में एक विशाल रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव पर भी निशाना साधा. पिछले साल विधानसभा चुनाव में भारी जीत के बाद भी कैबिनेट गठन में देरी को लेकर मोदी ने चंद्रशेखर राव पर हमला बोला और कहा कि वह किसी ज्योतिषी से प्रभावित रहे होंगे.

भाजपा-शिवसेना में सीट विवाद खत्म करने को रामदास अठावले ने दिया यह आईडिया

राव के बारे में कहा जाता है कि वह धार्मिक रीति-रिवाजों और ज्योतिष में खासा यकीन रखते हैं. मोदी ने राव को वंशवाद तथा तुष्टीकरण की राजनीति का ‘‘चेहरा’’ करार दिया. राव पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि ज्योतिषियों की सलाह से उन्होंने कुछ निर्णय किया है. मोदी ने कहा कि चुनाव जीतने के बाद भी कैबिनेट के गठन में देरी की वजह कोई ज्योतिषी हो सकते हैं, ज्योतिषी की सलाह पर सरकार लंबे समय तक ठप हो गई. उन्होंने कहा, ‘‘आप मुझे बताइए कि तेलंगाना के भविष्य के बारे में तेलंगाना के लोग फैसला करेंगे या कोई ज्योतिषी.’’

गुजरातः प्रत्याशी चुनने में भाजपा और कांग्रेस के बीच ‘पहले आप-पहले आप’ का खेल

मोदी ने दावा किया कि राव ने हार की आशंका को देखते हुए विधानसभा चुनाव पहले कराया. ‘‘अगर विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव के साथ होते तो वह डूब गए होते क्योंकि अप्रैल-मई में मोदी के सितारे चमकेंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ज्योतिषी की सलाह पर दोनों चुनावों को अलग कर दिया गया.’’ अगर दोनों चुनाव एक साथ होते तो भारी खर्च से बचा जा सकता था. लोकसभा चुनावों की घोषणा होने के बाद यहां अपनी पहली चुनावी सभा में मोदी ने कहा कि तमाम आलोचनाओं के बाद भी वह लोगों के आशीर्वाद के कारण विकास के अपने एजेंडे पर आगे बढ़ते रहे हैं. भाजपा यहां की सभी 17 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ रही है.

कभी जनसंघ के टिकट पर सांसद बने थे ये नेताजी, अब पार्टी भूली तो बनाते हैं बीड़ी

कभी जनसंघ के टिकट पर सांसद बने थे ये नेताजी, अब पार्टी भूली तो बनाते हैं बीड़ी

उन्होंने कहा, ‘‘आपके आशीर्वाद से मुझे सभी प्रकार के दबावों को झेलने में मदद मिली. यही कारण है कि मैं निर्णय लेने वाली सरकार चला सका.’’ उन्होंने जोर दिया कि राजग सरकार ने अपने पिछले पांच साल के कार्यकाल के दौरान महिलाओं तथा किसानों की सुरक्षा सहित अन्य चीजों के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी. मोदी ने कहा, ‘‘ 11 अप्रैल को आप किसी सांसद या प्रधानमंत्री के लिए मतदान नहीं करेंगे बल्कि एक नए भारत के लिए मत देंगे….’’ उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा में भी सुधार हुआ है और बम विस्फोट कश्मीर के कुछ हिस्सों तक सिमट कर रह गया है. वहीं देश के अन्य हिस्सों में कोई आतंकी हमला नहीं हुआ है. विपक्ष पर हमला बोलते हुए मोदी ने कहा कि उसके पास न कोई नेता है और न ही कोई नीति. ‘‘वे सिर्फ अपने परिवारों के बारे में सोचते हैं. वे कभी गरीबों, दलितों, वंचित वर्गों का हित नहीं करेंगे.’’