भोपाल: मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने गुरुवार को कहा कि देश में बुर्का पहनने पर प्रतिबंध लगाने पर मुझे कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन केंद्र सरकार राजस्थान में 6 मई को होने वाले लोकसभा सीटों के लिए मतदान से पहले घूंघट प्रथा पर प्रतिबंध लगाए. शिवसेना द्वारा देश में बुर्के पर प्रतिबंध की मांग को लेकर पूछे गए सवाल पर जावेद अख्तर ने यहां संवाददाताओं को बताया, भैया, बुर्के पर मेरा नॉलेज बहुत कम है. इसकी वजह कि जिस घर में मैं रहता हूं वहां कामकाजी महिलाएं थीं. मैंने तो कभी अपने घर में बुर्का देखा नहीं. Also Read - Agra Mumbai National Highway Blocked: मेधा पाटकर को उत्तर प्रदेश की सीमा में जाने से रोका, मुंबई-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग बंद

उन्होंने कहा, इराक बड़ा कट्टर मुस्लिम देश है. लेकिन वहां पर औरतें चेहरे को कवर नहीं करती हैं. श्रीलंका में भी जो कानून आया है उसमें यह है कि आप चेहरा कवर नहीं कर सकते. बुर्का पहनो, लेकिन चेहरा ढका हुआ नहीं होना चाहिए. ये उन्होंने कानून में डाला है. Also Read - जिस 'कड़कनाथ' के प्रति महेंद्र सिंह धोनी ने दिखाई दीवानगी, अब मध्य प्रदेश में बढ़ी उसकी डिमांड

जावेद ने कहा, यहां (भारत) पर अगर (बुर्के पहनने पर प्रतिबंध लगाने के लिए) कानून लाना चाहते हैं और अगर किसी की राय है, तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है. लेकिन इससे पहले कि राजस्थान में आखिरी मतदान हो जाए, इस (केंद्र) सरकार को ऐलान करना पड़ेगा कि राजस्थान में कोई घूंघट नहीं लगा सकता. उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि घूंघट भी हट जाए और बुर्का भी हट जाए. मुझे तो खुशी होगी. Also Read - कोरोना योद्धा डॉ. शुभम उपाध्‍याय के इलाज का पूरा खर्च उठा रही थी सरकार, प्‍लेन से चेन्‍नई ले जाने की थी तैयारी