भुवनेश्वर: बीजू जनता दल (बीजद) की कंधमाल से सांसद प्रत्यूषा राजेश्वरी सिंह शनिवार को पार्टी छोड़ कर भाजपा में शामिल हो गईं. इसी के साथ वह राज्य में एक साथ होने जा रहे लोकसभा एवं विधानसभा चुनावों से पहले ऐसा करने वाली क्षेत्रीय पार्टी की तीसरी सांसद बन गई हैं. भाजपा ने कंधमाल लोकसभा सीट के लिए अपने उम्मीदवार का नाम भी घोषित नहीं किया है और प्रत्यूषा को अपने ही निर्वाचन क्षेत्र से चुनावी मैदान में उतारा जा सकता है.

कंधमाल की सांसद प्रत्यूषा का भाजपा में शामिल ह‍ो जाना काफी चौंकाने वाला है क्योंकि वह कांग्रेस में शामिल होने वाली थीं. इसके लिए ओडिशा प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने दो दिन पहले ही इसकी घोषणा भी कर दी थी. कांग्रेस ने एलान किया था कि पार्टी में उनके शामिल होने की औपचारिक घोषणा शनिवार या रविवार को की जाएगी. इसी बीच वह कांग्रेस में ना जाकर बीजेपी में शामिल हो गईं.

उमा से हारने पर लिया था ऐसा संकल्प जिसने खत्म की दिग्विजय की अहमियत, अब 15 साल बाद लड़ेंगे चुनाव

बताया जा रहा है कि बीजद अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बीजेपी में शामिल हुईं सांसद प्रत्यूषा की जगह राज्यसभा सांसद अच्युत सामंत को दी थी. सांसद प्रत्यूषा ने फैसले के विरोध में अपनी आवाज उठाई और इसके लिए पार्टी के कुछ नेताओं को दोष दिया. वह भाजपा विधायक दल के नेता केवी सिंहदेव के आवास पर और भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा, पार्टी प्रदेश अध्यक्ष बसंत पांडा और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हुईं. बीजेडी के लिए इसे बड़ा झटका माना जा रहा है, वहीं कांग्रेस उनकी राह ही देखती रह गई.