नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में सामने आ रही ईवीएम (EVM) में गड़बड़ियों को लेकर विपक्षी दलों (Opposition Parties) ने बैठक की. बैठक में विपक्षी नेताओं (Opposition Leader’s) ने कहा कि कम से कम 50 प्रतिशत मतदान पर्चियों का मिलान ईवीएम से कराए जाने की मांग को लेकर वे सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का रुख करेंगे. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू (Chandra Babu Naidu) ने बताया कि 21 राजनीतिक दल 50 प्रतिशत मतदान पर्चियों का मिलान ईवीएम से कराए जाने की मांग कर रहे हैं. नायडू ने शनिवार को मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा से मुलाकात कर ईवीएम गड़बड़ी का मामला उठाया था. Also Read - कोरोना के बीच CBSE कराएगा एग्जाम, प्रियंका गांधी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से कहा- ये चौंकाने वाला फैसला, परीक्षाएं रद्द हों

आज इस मामले को लेकर आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि चुनाव आयोग बीजेपी के लिए काम कर रहा है. उसे निष्पक्ष रूप से काम करना चाहिए, जो वो नहीं कर रहा है. हमें यहां तक शक है कि ईवीएम के अंदर भी कुछ हेराफेरी की गई है. इसीलिए वह हमारी मांगों को नहीं मान रहे हैं. Also Read - Assam Assembly Election 2021: चुनाव के नतीजों से पहले ही कांग्रेस और AIUDF ने अपने उम्मीदवारों को भेजा राजस्थान

EVM में गड़बड़ी को लेकर निर्वाचन आयोग पहुंचे CM चंद्रबाबू नायडू, कहा- ये बड़ा चुनावी फरेब

कांग्रेस नेता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि विपक्षी दल हर विधानसभा क्षेत्र में कम से कम 50 प्रतिशत मतदान पर्चियों का मिलान ईवीएम से कराए जाने का निर्देश देने की मांग के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख करेंगे. उन्होंने कहा कि विपक्षी दल ईवीएम में गड़बड़ी के मुद्दे पर देशव्यापी अभियान चलाएंगे. सिंघवी ने आरोप लगाया, ‘‘ हमें नहीं लगता कि ईवीएम में गड़बड़ी के मुद्दे के निपटारे के लिए चुनाव आयोग पर्याप्त कदम उठा रहा है.’’

राहुल गांधी ने आतंकवाद का दंश झेला है, आतंक पर उनसे सवाल करने वाले शर्म करें: सैम पित्रोदा

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को चुनाव आयोग को निर्देश दिया था कि प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में पांच मतदान केन्द्र पर किसी भी मतदान पर्ची का ईवीएम का अधिक से अधिक मिलान किया जाए. उसने कहा था कि इससे ना केवल राजनीतिक दलों बल्कि सभी मतदाताओं को भी काफी संतुष्टि मिलेगी.