नई दिल्ली: एनडीए और बीजेपी की ओर से चुने गए पीएम पद के लिए नरेंद्र मोदी ने पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह के साथ मीटिंग में मंत्र‍िपरिषद को अंतिम रूप दिया है. कैबिनेट में शामिल होने वाले लगभग सभी मंत्र‍ियों के नाम तय हो चुके हैं. सूत्रों के मुताबिक, मंत्री पद की शपथ लेने से पहले कैबिनेट में शामिल होने वाले नेता गुरुवार की शाम 4:30 बजे पीएम नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात करेंगे. कैबिनेट में शामिल होने वालों में इन नेताओं संतोष सिंह गंगवार, जितेंद्र सिंह, नित्‍यानंद राय, एलजेपी प्रमुख राम विलास पासवान, नितिन गडकरी, मनसुख लाल मंडाविया, डीवी सदानंद गौड़ा, गिरिराज सिंह, धर्मेंद्र प्रधान, मुख्‍तार अब्‍बास नकवी, बाबुल सुप्रियो, शि‍रोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल, अनुप्रिया पटेल, अरविंद सावंत के नाम की पुष्टि हो चुकी है. इन्‍हें कैबिनेट की शपथ लेने से पहले पीएम मोदी से मिलने की बुलावा आया है.

बीजेपी सांसद रमेश‍ पोखरियाल ने बताया कि उन्‍हें पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह का फोन आया है. उन्‍होंने मुझे शाम में पीएम की मीटिंग में मौजूद रहने के लिए कहा है. वहीं, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर भी पीएम की मीटिंग में मौजूद रहने के लिए कॉल आया है. पिछले सरकार में केंद्रीय मंत्री रहीं बीजेपी सांसद निरंजन ज्‍योति को भी कैबिनेट में शामिल होने के लिए कॉल आया है. इसके लिए निरंजन ज्‍योति ने पीएम नरेंद्र मोदी का आभार जताया है. राजस्‍थान से बीजेपी के सांसद और पिछली मोदी सरकार में मंत्री रही अर्जुनराम मेघवाल को भी बुलावा आया है.

पीएम नरेंद्र मोदी ने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ लेने से पहले अपनी मंत्रिपरिषद को व्यवस्थित तरीके से आकार देने के लिए आज सुबह भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ अंतिम दौर की मीटिंग की.

बता दें नई सरकार गुरुवार शाम को शपथ लेगी. मोदी नीत भाजपा ने लोकसभा चुनाव में 542 सीटों में से 303 सीटें जीतकर सत्ता में बहुमत के साथ वापसी की है. नरेन्द्र मोदी अपनी मंत्रिपरिषद के साथ अपने दूसरे कार्यकाल के लिए राष्ट्रपति भवन में एक समारोह में शाम 7 बजे शपथ लेंगे. सरकार गठन को लेकर मोदी और शाह पिछले दो दिनों में कई दौर की वार्ता कर चुके हैं.

 

अमित शाह शामिल हो सकते हैं कैबिनेट में
सरकार गठन के संदर्भ में गहमागहमी के बीच अमित शाह का अकबर रोड स्थित आवास केंद्र बना हुआ है. उनसे मिलने वालों में पार्टी के संगठन मंत्री राम लाल शामिल है. सूत्रों ने बताया कि लोकसभा चुनाव में भाजपा को 303 सीटों के साथ बड़ी जीत दिलाने में शिल्पकार रहे अमित शाह मोदी मंत्रिपरिषद में शामिल हो सकते हैं.

इन चेहरों को मंत्रिमंडल में लाने के इशारे
पार्टी के वरिष्ठ सदस्य जैसे राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, स्मृति ईरानी, रविशंकर प्रसाद, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, नरेंद्र सिंह तोमर, मुख्तार अब्बास नकवी और प्रकाश जावड़ेकर मंत्रिमंडल में शामिल होंगे. इसके अलावा अर्जुन राम मेघवाल, गजेन्द्र सिंह शेखावत, जयंत सिन्हा, गिरिराज सिंह, राज्यवर्द्धन सिंह राठौर, दिलीप घोष, जितेन्द्र सिंह, पुरूर्षोत्तम रूपाला, नित्यानंद राय को मंत्रिपरिषद में शामिल किए जाने के संकेत मिले हैं . साथ ही प्रहलाद पटेल, कैलाश चौधरी के अलावा तेलंगाना से कृष्णा रेड्डी, कर्नाटक से सुरेश अंगड़ी, महाराष्ट्र से राव साहब दानवे को भी मंत्रिपरिषद में स्थान मिलने के संकेत हैं.

इन राज्‍यों को भी मिलेगी अह‍मियत
संभावना है कि नए मंत्रिमंडल में पश्चिम बंगाल, ओडिशा और तेलंगाना जैसे राज्यों में भाजपा की बढ़ती ताकत प्रतिबिंबित हो सकती है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को शाह से मुलाकात की. समझा जाता है कि दोनों नेताओं ने सरकार में जनता दल यू के प्रतिनिधित्व पर चर्चा की.

रामविलास पासवान भी होंगे शामिल
लोकजनशक्ति पार्टी ने मंगलवार को एक प्रस्ताव पारित किया, जिसमें उसके अध्यक्ष रामविलास पासवान को मोदी सरकार में उसके प्रतिनिधि के तौर पर शामिल करने की सिफारिश की गई.

जेटली कर चुके हैं इनकार
शपथ ग्रहण से एक दिन पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मोदी को पत्र लिखकर कहा कि वह खराब सेहत के चलते नई सरकार में मंत्री पद के इच्छुक नहीं हैं.

इन दलों के नेता भी होंगे शामिल
अन्नाद्रमुक जो कि पूर्ववर्ती सरकार का हिस्सा नहीं थी, उसने मात्र एक सीट जीती है. उसे एक मंत्री पद दिया जा सकता है क्योंकि पार्टी तमिलनाडु में सत्ता में है और भाजपा की प्रमुख सहयोगी द्रविड़ पार्टी है. अकाली दल से हरसिमरत कौर बादल के मंत्रिपरिषद में शामिल होने के संकेत मिले हैं . अपना दल से अनुप्रिया पटेल मंत्रिपरिषद में शामिल हो सकती हैं .

8 हजार मेहमान होंगे समारोह में
राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में आयोजित होने वाले इस शपथ ग्रहण समारोह में करीब आठ हजार मेहमानों के शामिल होने की उम्मीद है. वर्ष 2014 में मोदी को तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दक्षेस देशों के प्रमुखों सहित 3500 से अधिक मेहमानों की मौजूदगी में शपथ दिलाई थी.

इन पीएम ने ली थी राष्‍ट्रपति भवन में शपथ
राष्ट्रपति भवन के प्रांगण का इस्तेमाल आम तौर पर देश की यात्रा पर आने वाले राष्ट्राध्यक्षों एवं सरकार के प्रमुखों के औपचारिक स्वागत के लिए किया जाता है. इससे पहले 1990 में चंद्रशेखर और 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी को राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में शपथ दिलाई गई थी.

समारोह में ये विदेशी मेहमान होंगे शामिल
शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक देशों बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली, म्यामां के राष्ट्रपति यू विन मिंट और भूटान के प्रधानमंत्री लोताय शेरिंग ने शामिल होने की पुष्टि पहले ही कर दी है. थाईलैंड से उसके विशेष दूत जी बूनराच देश का प्रतिनिधित्व करेंगे. भारत के अलावा बिम्सटेक में बांग्लादेश, म्यामां, श्रीलंका, थाईलैंड, नेपाल और भूटान शामिल हैं. इन नेताओं के साथ-साथ शंघाई सहयोग संगठन के वर्तमान अध्यक्ष और किर्गिस्तान के वर्तमान राष्ट्रपति जीनबेकोव और मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ को भी शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया गया है.