नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार की शाम जी न्यूज को दिए शुद्ध राजनीतिक इंटरव्यू में कहा कि उन्होंने अपनी छवि बनाने के लिए मेहनत की है, न कि उनकी छवि किसी ने गढ़ी है. लोकसभा चुनाव के आखिरी दो चरणों के मतदान से पहले जी न्यूज को दिए गए विशेष इंटरव्यू में पीएम मोदी ने उन सभी सवालों के जवाब दिए, जिसको लेकर देश में बहस चल रही है. उन्होंने चुनाव के बाद अगली सरकार बनने, विपक्षी दलों के हमले और चुनाव प्रचार में अपशब्दों के इस्तेमाल से जुड़े सवालों के भी जवाब दिए. साथ ही विदेशी मामलों पर उठ रहे सवालों का भी बेबाक जवाब दिया.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को लेकर दिए गए बयानों पर दो टूक कहा कि उन्होंने अपना इमेज खुद बनाया है, न कि किसी ने उनकी छवि गढ़ी है. पीएम मोदी ने जी न्यूज पर दिए गए शुद्ध राजनीतिक साक्षात्कार में राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा, ‘नामदार की तरफ से एक इंटरव्यू में कहा गया कि हमारी रणनीति है कि हम प्रधानमंत्री की छवि को खराब करेंगे. मेरी छवि किसी ने बनाई नहीं है. मैंने 45 साल के तप के बाद ये सब कुछ हासिल किया हुआ है. राजीव गांधी के लिए मिस्टर क्लीन की छवि गढ़ी गई थी. मेरे साथ ऐसा नहीं है.’

पीएम मोदी बोले- ‘आएगा तो मोदी ही’ कोई जोक नहीं, बल्कि सच्चाई है

कांग्रेस में मान-सम्मान की बात पर पीएम मोदी ने कहा, ‘आप मान सम्मान की बात करते हैं, नरसिम्हा राव जी आपकी ही पार्टी के थे, प्रधानमंत्री थे, उनकी डेड बॉडी को आपने कांग्रेस दफ्तर तक नहीं जाने दिया था. मान सम्मान की बातें आपके मुंह से शोभा नहीं देती.’ छवि को लेकर उठ रहे सवाल पर उन्होंने कहा, ‘मैंने सिर्फ मुद्दा उठाया है, कोई आरोप नहीं उठाया है. मैंने कोई अपशब्द नहीं कहा है. जिस नाम से आप वोट मांग सकते हो, उस नाम से जुड़ी बाकी चीजों पर भी आपको जवाब देना पड़ेगा.’

'शुद्ध राजनीतिक इंटरव्यू' में बोले पीएम मोदी- कंफ्यूज है विपक्ष, चुनाव के बाद बिखर जाएगा

'शुद्ध राजनीतिक इंटरव्यू' में बोले पीएम मोदी- कंफ्यूज है विपक्ष, चुनाव के बाद बिखर जाएगा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा किए गए चुनावी हमलों पर भी पीएम ने बात की. उन्होंने ममता बनर्जी के उस बयान कि वह मोदी को पीएम नहीं मानती पर कहा, ‘मुझे दिक्कत ममता जी या TMC से नहीं है. लेकिन बंगाल की बर्बादी बहुत गंभीर समस्या है. ये देश के लिए खतरा है. इस तरह की सोच और व्यक्तित्व देश के संविधान के लिए खतरा है, ये सामान्य चीज नहीं है. क्या भारत का संविधान ये कहने की अनुमति देता है कि मैं देश के प्रधानमंत्री को अपना प्रधानमंत्री नहीं मानता. ये संविधान पर अविश्वास की अभिव्यक्ति है.’