नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार की शाम जी न्यूज को दिए इंटरव्यू में कहा कि देश में ‘आएगा तो मोदी ही’ का नारा जो चल रहा है, वह कोई मजाक नहीं, बल्कि हकीकत है. ये देश ने तय कर लिया है. लोकसभा चुनाव के आखिरी दो चरणों के मतदान से पहले जी न्यूज को दिए साक्षात्कार में पीएम मोदी ने कई सवालों के बेबाकी से जवाब दिए. जी न्यूज के एडिटर इन चीफ सुधीर चौधरी को दिए विशेष इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कहा कि देश की जनता ने 2019 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को पहले से ज्यादा सीट देने का मन बनाया है.

सवाल – बोरिया-बिस्तर समेट रहे हैं?

पीएम मोदी – विरोधी क्या सोच रहे हैं मुझे नहीं मालूम. उन्हें सपने देखने का हक है, वो ख्वाबों में खोए रहें, मेरी शुभकामनाएं. पांच साल में दफ्तर में कैद नहीं था, जनता के बीच ही रहा. जीवंत संपर्क वाला व्यक्ति हूं. सारे अनुभवों के आधार पर कह रहा हूं कि जनता मजबूत, निर्णायक सरकार चाहती है. पिछले पांच साल में शायद ही कोई शनिवार-रविवार ऐसा होगा जो मैंने जनता के बीच न बिताया हो. अपने इस अनुभवों के आधार पर कह सकता हूं कि देश की जनता निर्णायक सरकार चाहती है.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

सवाल – चुनाव के नतीजों पर

पीएम मोदी – 2014 में देश की जनता के मन में एक कौतुहल था कि मोदी कौन है. 2019 तक उन्होंने मोदी को जाना है, समझा है. मेरा काम बोल रहा है. हमने राज्यों के साथ मिलकर ग्रास रूट पर विकास करने पर बल दिया. मेरा पक्का विश्वास है कि देश की जनता ने भारतीय जनता पार्टी को पहले से ज्यादा सीटें देना तय किया है, भाजपा के सहयोगी दलों को ज्यादा सीटें देने का तय किया है.

सवाल – राजनीति के ‘शोले’ हैं या ‘एवेंजर्स’?

पीएम मोदी – राजनीति में सच्चाई की धरातल पर जीना चाहिए. रील लाइफ और रियल लाइफ में बहुत अंतर होता है. रील लाइफ दो-तीन घंटे के लिए होता है, रियल लाइफ में हर कदम पर चुनौती है. मैं कभी फिल्मी एडवेंचर्स से प्रभावित नहीं होता. राजनीति पक्के इरादों से और पक्के परिणाम देने पर आधारित होने चाहिए.

सवाल – इस बार 2014 वाली लहर है?

पीएम मोदी – देश की जनता बता देगी किसकी लहर है. 2014 में भी कुछ तो सीना ठोक कर कहते थे मोदी लहर नहीं है. भारत के लोकतंत्र, उसकी विशालता को लेकर दुनिया बहुत प्रसन्न है. हमें मिलकर विश्व में हमारे लोकतंत्र और चुनाव प्रक्रिया की ब्रांडिंग करनी चाहिए.

सवाल – चुनाव में जीत के बाद विपक्ष ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाएगा?

पीएम मोदी – विपक्ष की ईवीएम पर दोष देने की तैयार अभी से चल रही है. ये ऐसा ही है जैसे कोई खिलाड़ी आउट हो जाता है तो बैट को ठोकर अंपायर की ओर देखता है और ये संदेश देता है कि मैं तो सही था अंपायर गलत है.