पटना. भाजपा के स्टार प्रचारक और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले हफ्ते लोकसभा चुनाव के प्रचार के लिए बिहार पहुंचने वाले हैं. पहले चरण के लोकसभा चुनाव के लिए पीएम मोदी की जो रैलियां बिहार में होने वाली हैं, उससे राज्य का सियासी तापमान तो बढ़ेगा ही, साथ ही उन विपक्षी नेताओं की भी नींद हराम होगी जो चुनाव मैदान में उतरे हुए हैं. पीएम मोदी की रैली गया और जमुई में होनी है. गया से हालांकि इस बार भाजपा ने अपना कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है, बल्कि यह सीट एनडीए के घटक जदयू को दी गई है. लेकिन यहां से महागठबंधन के उम्मीदवार के तौर पर पूर्व सीएम जीतन राम मांझी चुनाव मैदान में हैं. मांझी के लिए गया उनका गृहक्षेत्र है, बावजूद इसके पीएम मोदी की आक्रामक प्रचार शैली और भाजपा के चुनावी अभियान से पूर्व सीएम की नींद हराम होना स्वाभाविक है.

रेल टिकटों के बाद अब एयर इंडिया के बोर्डिंग पास पर पीएम मोदी की तस्वीरें

लोकसभा चुनावों के लिए भाजपा के नेतृत्व वाले राजग का चुनाव प्रचार अभियान अगले सप्ताह से बिहार में जोर पकड़ेगा. जमुई और गया संसदीय क्षेत्रों में रैलियों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस अभियान को तेज रफ्तार देंगे. पार्टी के प्रदेश मुख्यालय द्वारा सोमवार को जारी विज्ञप्ति के अनुसार मोदी की यात्रा दो अप्रैल को प्रस्तावित है, वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह 29 मार्च को औरंगाबाद और नवादा में चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे. जिन चार क्षेत्रों में शाह और मोदी चुनाव प्रचार करेंगे वहां पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान होंगे और इसके लिए नामांकन की समय सीमा सोमवार को खत्म हो गई है.

गुजरात में चौंकाने के मूड में कांग्रेस, इन 7 सीटों पर आसान नहीं होगी भाजपा की राह

गुजरात में चौंकाने के मूड में कांग्रेस, इन 7 सीटों पर आसान नहीं होगी भाजपा की राह

उल्लेखनीय है कि चार सीटों में सिर्फ औरंगाबाद सीट पर भाजपा चुनाव लड़ने वाली है, जहां से मौजूदा सांसद सुशील कुमार सिंह फिर से चुनाव में अपनी किस्मत आजमाने वाले हैं. गया जहां से मौजूदा सांसद भाजपा के हरि मांझी हैं, यह सीट इस बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जदयू को दी गई है और पार्टी ने इस सीट से विजय मांझी को उतारा है. जमुई एक सुरक्षित सीट है जहां से लोजपा के चिराग पासवान सांसद हैं और इस बार भी वह इसी सीट से राजग उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने वाले हैं. नवादा से भाजपा के फायरब्रांड नेता गिरिराज सिंह सांसद हैं लेकिन इस बार यह सीट लोजपा को दी गई है, जिसने माफिया से नेता बने सुरज भान सिंह के भाई चंदन कुमार को चुनाव मैदान में उतारा है. आपको बता दें कि बिहार में लोकसभा का चुनाव सात चरणों में होना है. 11 अप्रैल को पहले चरण से लेकर 19 मई के आखिरी दौर तक, सभी चरणों में राज्य की विभिन्न सीटों पर वोट डाले जाएंगे.

राहुल के ‘चुनावी वादे’ से देश के खजाने पर कितना पड़ेगा बोझ, जानिए विशेषज्ञों की राय

गया में पीएम मोदी की सभा को लेकर सियासी विश्लेषकों की नजरें जमी हुई हैं. क्योंकि गया से महागठबंधन के उम्मीदवार जीतन राम मांझी, कुछ महीने पहले ही एनडीए छोड़कर आए हैं. ऐसे में पूरी उम्मीद है कि पीएम मोदी अपने भाषण के दौरान मांझी और महागठबंधन को निशाने पर रखेंगे. यूं भी, अपने चुनावी और गैर-चुनावी भाषणों में भी पीएम मोदी महागठबंधन को महामिलावट या अन्य विशेषण देते रहे हैं. जीतनराम मांझी की संसदीय सीट के अलावा पीएम मोदी लोजपा उम्मीदवार चिराग पासवान के संसदीय क्षेत्र में भी रैली करने वाले हैं. इन दोनों ही क्षेत्रों में पीएम मोदी के भाषण और वहां होने वाली रैली पर सियासी जानकार नजरें टिकाए हुए हैं.

(इनपुट – एजेंसी)

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com