नई दिल्ली. यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी की बेटी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी जबसे सक्रिय राजनीति में आई हैं चर्चा का विषय बनी हुई हैं. पार्टी ने उन्हें महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया है, लेकिन कार्यकर्ता लगातार मांग कर रहे हैं कि वह लोकसभा का चुनाव लड़ें. रायबरेली में लगातार इस बात की मांग आ रही है कि सोनिया गांधी की तबीयत नहीं ठीक है तो प्रियंका को यहां से चुनाव लड़ना चाहिए. इस बीच प्रियंका से गुरुवार को इस बाबत एक बार फिर मांग की गई, लेकिन प्रियंका ने जो जवाब दिया, उसने सभी राजनीतिक पंडितों का ध्यान खींचा है.

दरअरसल, गुरुवार को प्रियंका गांधी रायबरेली में थीं. इस दौरान कार्यकर्ताओं ने उनसे कहा कि वह रायबरेली से ही लोकसभा का चुनाव लड़ें. प्रियंका गांधी वाड्रा ने इसपर मजाकिया अंदाज में कहा कि वाराणसी से क्यों नहीं? वाराणसी से ही लड़ लूं! इसके बाद से इस नए गणित पर बात होने लगी है. बता दें कि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय सीट है.

2022 की तैयारी करने को कही थीं
इसके एक दिन पहले प्रियंका गांधी अमेठी में थी. वहां जिला मुख्यालय गौरीगंज के पास पास कार्यक्रम में पार्टी कार्यकर्ताओं से सवाल पूछकर उनको चकित कर दिया. उन्होंने पार्टी के एक कार्यकर्ता से पूछा, “क्या आप चुनाव की तैयारी कर रहे हैं? मैं 2019 की नहीं, बल्कि 2022 की बात कर रही हूं.” उनके इस बयान से प्रदेश के लिए कांग्रेस की योजना और प्रियंका को वहां लाने की वजह का संकेत मिलता है.

राहुल ने भी ये कहा था
राहुल गांधी ने उनको 23 जनवरी को पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी नियुक्त करने के बाद मीडियाकर्मियों से कहा, “उन्हें यहां चार महीने के लिए नहीं भेजा गया है. उनको यहां बड़ी योजना के साथ भेजा गया है. हम न सिर्फ 2019 में भाजपा को शिकस्त देंगे, बल्कि 2022 का चुनाव जीतेंगे.”