लखनऊ/प्रयागराज: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान पर चुटकी लेते हुए कहा कि गरीब नहीं, अमीर लोग ही चौकीदार रखते हैं. उन्होंने कहा कि यह उन (मोदी) की मर्जी है कि अपने नाम के आगे क्या लगाएं, लेकिन उनसे जो लोग मिलते हैं, वे कहते हैं कि ‘चौकीदार तो अमीरों के होते हैं, हम गरीब-किसान तो खुद अपने चौकीदार होते हैं.’ प्रियंका ने सोमवार को तीन दिनों की गंगा यात्रा शुरू की है. इसी क्रम में प्रयागराज के सिरसा घाट में मोटरबोट से उतरकर उन्होंने घाट पर बड़ी संख्या में मौजूद लोगों से मुलाकात की. घाट के तट पर मौजूद शिव मंदिर में उन्होंने मत्था टेका. इसके बाद बाजार से गुजरते हुए वह शिवगंगा वाटिका गेस्ट हाउस पहुंचीं और यहां नुक्कड़ सभा को संबोधित किया. Also Read - Sex Scandal video पर घिरे Karnataka के मंत्री रमेश जारकीहोली ने कहा- आरोप साबित हुए तो राजनीति छोड़ दूंगा

उन्होंने कहा, “मोदी सरकार में आम लोगों की आवाज दबाई जा रही है. सरकार सिर्फ गिने चुने लोगों के लिए ही काम कर रही है.” प्रियंका ने जनसमूह से कहा, “इस समय देश संकट में है. देश चार-पांच लोगों के हाथ में गिरवी है. इस चुनाव में आप अपने और अपने बच्चों के भविष्य के लिए वोट कीजिए. कांग्रेस की सरकार को याद कीजिए. उस समय देश के माहौल और सामाजिक समरसता की तुलना आज से कीजिए. झूठे वादे करनेवालों को सबक सिखाइए और राहुल गांधी के हाथ को मजबूत कीजिए.” Also Read - Petrol Diesel Prices: बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम तो वकील ने जताई अनोखी इच्छा, प्रशासन हैरान

प्रयागराज में बड़े हनुमान के दर्शन कर प्रियंका गांधी ने शुरू किया ‘रिवर शो’, ये है पूरा कार्यक्रम Also Read - गले में प्याज की माला, सिर पर गैस सिलिंडर: महंगाई के विरोध में RJD नेता कुछ ऐसे पहुंचे विधानसभा

कांग्रेस महासचिव ने कहा, “यह समय घर में बैठने का नहीं है. आप लोग घरों से निकलकर बाहर आएं. मैं भी घर में बैठी थी, मुझे भी मजबूरन बाहर निकलना पड़ा. हमारे लोकतांत्रिक संस्थानों को खत्म किया जा रहा है. देश का संविधान खतरे में है. आपलोगों को खुद के लिए ही नहीं, देश को बचाने के लिए काम करना है.” सिरसा में प्रियंका गांधी का जोरदार स्वागत किया गया. कांग्रेस की पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी ने सिरसा में एक किलोमीटर तक पैदल चलीं. उनके साथ चलने के लिए जन सैलाब उमड़ा. इस दौरान प्रियंका हर घर के दरवाजे पर पहुंचीं और लोगों से मिलीं.