नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को राजी नहीं हो रहे हैं. हालांकि दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी (डीपीसीसी) की अध्यक्ष शीला दीक्षित और पार्टी के कई नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने उनसे अपने फैसला बदलकर पार्टी का नेतृत्व जारी रखने का आग्रह किया है. डीपीसीसी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने गांधी के आवास पर प्रदर्शन किया और राहुल गांधी के पक्ष में नारेबाजी की. बता दें कि 25 मई को कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी, हालांकि, सीडब्ल्यूसी ने उनकी पेशकश को खारिज किया और उन्हें संगठन में सभी स्तर पर आमूलचूल बदलाव के लिए अधिकृत किया.

कैबिनेट की कवायद: अमित शाह की नीतीश कुमार के साथ बैठक, मोदी से फिर मिले बीजेपी अध्यक्ष

शीला इस दौरान गांधी के आवास के भीतर भी गईं, हालांकि सूत्रों का कहना है कि उनकी मुलाकात राहुल गांधी से नहीं हो सकी क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष इन दिनों नेताओं से मुलाकात नहीं कर रहे हैं. शीला के करीबी एक विश्वस्थ सूत्र ने बताया कि शीला ने गांधी के सहयोगी के. राजू से मुलाकात की और उनके माध्यम से कांग्रेस अध्यक्ष तक यह संदेश पहुंचाया कि उन्हें इस्तीफा नहीं देना चाहिए और अगर वह पद छोड़ते हैं, तो पार्टी कार्यकर्ताओं को बहुत तकलीफ होगी.

टीएमसी में मची भगदड़, एक और एमएलए समेत कई नेता बीजेपी में हुए शामिल

राहुल गांधी के घर के बाहर जुटे सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता, ‘इस्तीफा वापस लो’ के लगाए नारे

डीपीसीसी के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश लिलोठिया ने कहा, ‘सभी कार्यकर्ता चाहते हैं कि राहुल अपने फैसले को वापस लें. वैसे उनका जो भी फैसला होगा, वो हमें स्वीकार होगा.’ पूर्व मुक्केबाज और दक्षिणी दिल्ली लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार रहे विजेंद्र सिंह ने कहा, ‘हम राहुल जी से यही आग्रह करने आएं हैं कि उन्होंने बहुत मेहनत की है और उन्हें अध्यक्ष पद पर बने रहना चाहिए.” उन्होंने कहा, ‘चुनाव में हम लड़े, हम सफल नहीं हुए. आगे हमें संघर्ष करना है.” प्रदर्शन में शामिल हुए कार्यकर्ताओं ने “राहुल गांधी जिंदाबाद” और ‘राहुल जी आप संघर्ष करो, हम आपके साथ हैं’ के नारे लगाए.