नई दिल्ली: इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र तैयार कर लिया है और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मंगलवार को पार्टी का घोषणापत्र जारी करेंगे. इसमें न्यूनतम आय योजना (न्याय) और स्वास्थ्य के अधिकार के साथ किसान की कर्ज माफी, दलितों एवं ओबोसी समुदायों के लिए कई प्रमुख वादे हो सकते हैं. कांग्रेस अपने घोषणा पत्र के जरिए वोटर्स को अपनी ओर आकर्षित करना चाहती है. कांग्रेस अध्‍यक्ष ने रविवार को कहा कि कांग्रेस 22 लाख सरकारी वैकेंसी पर 31 मार्च 2020 तक नियुक्‍त‍ियां कर देगी

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, गांधी मंगलवार की दोपहर को घोषणापत्र जारी करेंगे. इस मौके पर कांग्रेस की घोषणापत्र समिति के अध्यक्ष पी. चिदंबरम और दूसरे वरिष्ठ नेताओं के मौजूद रहने की संभावना है. सूत्रों का कहना है कि घोषणा पत्र में ‘न्याय’ योजना के तहत गरीबों को 72,000 रुपए सालाना देने के वादे के साथ-साथ कुछ अन्य अहम वादों को भी जगह मिल सकती हैं.

अंतरिक्ष में भारत की एक और बड़ी उपलब्धि, सुरक्षा से जुड़े एमीसेट उपग्रह का सफल प्रक्षेपण किया

कांग्रेस अध्यक्ष ने कुछ दिनों पहले ऐलान किया था कि उनकी पार्टी सत्ता में आई तो गरीबी हटाने के लिए न्यूनतम आय योजना शुरू की जाएगी. इसके तहत देश के पांच करोड़ सबसे गरीब परिवारों को प्रति माह 6,000 रुपए दिए जाएंगे. इसके अलावा गांधी ने स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में बजट बढ़ाने का वादा किया है.

सपा-बसपा गठबंधन नहीं ‘ठगबंधन’: केशव प्रसाद मौर्य

पार्टी इस बार किसानों के लिए कर्जमाफी की घोषणा करने के साथ ही स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के मुताबिक, न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करने का वादा कर सकती है.

#IndiaKaDNA LIVE: सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा, ‘अर्थशास्त्र जानने वाला एक ही वित्त मंत्री रहा मनमोहन सिंह’

कांग्रेस के अन्य वादों में सबके लिए स्वास्थ्य सेवा का अधिकार, अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़ा वर्ग के बेघर लोगों को जमीन का अधिकार, पदोन्नति में आरक्षण के लिए संविधान में संशोधन करना और महिला आरक्षण विधेयक को पारित करना आदि शामिल हैं.