नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए गुरुवार को वोट डाले जा रहे हैं. कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक जिन 95 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं, वह दिल्ली की सत्ता में काबिज होने के लिए निर्णायक हो सकता है. इसमें सबसे ज्यादा तमिलनाडु की सीटें हैं, जहां दोनों राष्ट्रीय पार्टियां कांग्रेस और बीजेपी रुझानों में कमजोर दिख रही थीं. ऐसे में ये सीटें दोनों पार्टियों के लिए महत्वपूर्ण हैं.

साल 2014 के चुनाव पर नजर डालें तो इन 95 सीटों में से 27 सीटों पर बीजेपी को जीत मिली थी. तमिनलाडु के अलावा यूपी, कर्नाटक, असम, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल, असम, ओडिशा, छत्तीसगढ़, जम्मू कश्मीर, कन्याकुमारी के 15.5 करोड़ वोटर इस चरण में वोटिंग करने जा रहे हैं. पश्चिमी यूपी की जिन 8 सीटों पर चुनाव हो रहे हैं, वह सभी सीटें अभी बीजेपी के पास हैं. ऐसे में बीजेपी को इन्हें बचाए रखना एक चुनौती है. वहीं कांग्रेस और महागठबंधन के पास खोने के लिए कुछ नहीं है. इकॉनमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, दूसरे चरण की हॉट सीटें और राज्यों की चुनौतियोंके बारे में इसे इन्फोग्राफिक में विस्तार से बताया गया है.

बिहार-कर्नाटक में चुनौती
बिहार में बीजेपी और जेडीयू मिलकर चुनाव लड़ रही हैं. लेकिन दूसरा चरण जेडीयू के लिए काफी महत्वपूर्ण है. उसके सभी प्रमुख नेता इन 5 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं और यह पार्टी के लिए महत्वपूर्ण है कि वह इन सीटों को जीते. दूसरी तरफ कांग्रेस और जेडीएस के मजबूत 14 सीटों पर भी कर्नाटक में वोट डाले जा रहे हैं.

पूर्वोत्तर में सबसे बड़ी चुनौती
बीजेपी के लिए सबसे बड़ी चुनौती पूर्वोत्तर के राज्यों में लोकसभा चुनाव में अपनी पकड़ बनाना है. विधानसभा चुनावों में जीत से पार्टी उत्साहित तो है, लेकिन एनआरसी सहित कई मुद्दों पर वहां पिछले कई महीने से आंदोलन चल रहा है. कई बार पुलिस और सुरक्षाबलों को सख्त रुख तक अपनाना पड़ा है. ऐसे में पूर्वोत्तर के राज्यों को कांग्रेस से पूरी तरह छीनने के लिए प्रयास कर रही बीजेपी के लिए यहां भी चुनौती दिख रही है. पश्चिम बंगाल की जिन 3 सीटों पर चुनाव हो रहा है, वहां किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए सुरक्षा को मजबूत कर दिया गया है.

यूपी की इन सीटों पर सबकी नजर
मथुरा: यहां बीजेपी से हेमा मालिनी, महागठबंधन से नरेंद्र सिंह और कांग्रेस से महेश पाठक उम्मीदवार हैं.
फतेहपुर सिकरी: यहां कांग्रेस से राजबब्बर, बीजेपी राजकुमार चहर और महागठबंधन से श्रीभगवान शर्मा मैदान में हैं.
अल्मोड़ा: महागठबंधन से दानिश अली और बीजेपी से कुंवर सिंह तंवर में सीधा मुकाबला है.

बिहार की इन सीटों पर नजर
बांका: यहां आरजेडी के जयप्रकाश नारायण यादव, जेडीयू के गिरिधारी यादव और आईएनडी की पुतुल सिंह में त्रिकोणीय मुकाबला है.
कटिहार: कांग्रेस के तारिक अनवर और जेडीयू के दुलाल चंद्र गोस्वामी आमने-सामने हैं.

असम
सिलिचर: कांग्रेस की सुष्मिता देव और बीजेपी के राजदीप रॉय में सीधा मुकाबला है.

ओडिशा
सुंदरगढ़: केंद्रीय आदिवासी कल्याण मंत्री जुअल ओरम का सीधा मुकाबला बीजेडी के कैंडिडेट सुनिता बिस्वाल से है.

कर्नाटक
बेंगलुरु दक्षिण: बीजेपी के पोस्टर ब्वॉय तेजस्वी सूर्या का मुकाबला कांग्रेस के बीके हरिप्रसाद से है.
हसान: जेडीएस के प्रजवाल रेवन्ना (एचडी देवगौड़ा के पोते) का सीधा मुकाबला बीजेपी के ए मंजू से है.
बेंगलुरु उत्तर: केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा का सीधा मुकाबला राज्य के मंत्री कृष्ण बायर गौड़ा से है.
चल्कबल्लपुर: कांग्रेस सांसद वीरप्पा मोइली का सीधा मुकाबला बीजेपी के बीएन बाचे गौड़ा से है.

तमिलनाडु
तूथुकुड़ी: डीएमके की कनिमोझी करुणानिधी का सीधा मुकाबला बीजेपी के तमिलसन्न सुंदरराजन से है.
शिवगंगा: कांग्रेस के कार्ति पी चिदंबरम का सीधा मुकाबला बीजेपी के एच राजा से है.
कन्याकुमारी: केंद्रीयमंत्री पोन राधाकृष्णन का सीधा मुकाबला वसंतकुमार एच से सीधा मुकाबला है.