नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में गुरुवार को पुडुचेरी और देश के 12 राज्यों की 95 लोकसभा सीटों के लिए हुए मतदान में करोड़ों मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. इस दौरान पश्चिम बंगाल में छिटपुट हिंसा से कुछ जगह मतदान बाधित हुअ, जबकि श्रीनगर में मतदान की गति मंद रही. सात राज्यों में ईवीएम में खराबी से मतदान थोड़ी देर के लिए बाधित रहा. देश में गुरुवार को हुए मतदान में कुल 15.7 करोड़ मतदाता 95 लोकसभा सीटों के लिए 1,606 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करने के पात्र थे.

पत्थरबाजों और सुरक्षा बलों के बीच कुछ टकराव की घटनाओं के सिवा श्रीनगर लोकसभा सीट पर मतदान गुरुवार को शांतिपूर्ण संपन्न हुआ, जबकि उधमपुर में भारी तादाद में मतदाताओं ने निकलकर मतदान किया. अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर के बटमालू, गांदरबल जिले पंडाच इलाके और बडगाम जिले में चार जगहों पर मतदान को बाधित करने की कोशिश करने वाले पत्थरबाजों और सुरक्षा बलों के बीच टकराव हुए.

इन टकरावों में एक नागरिक और दो अधिकारी समेत चार पुलिसकर्मी घायल हो गए. सुरक्षा बलों ने बताया कि उन्होंने काफी नियंत्रण बरता ताकि श्रीनगर में हिंसा से मतदान प्रभावित नहीं हो.

उधमपुर में 65 फीसदी वोटिंग
श्रीनगर में करीब 15 फीसदी मतदान हुआ जबकि उधमपुर में 65 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया जिनमें नवविवाहित जोड़े भी थे.

अन्य जगहों पर मतदान शांतिपूर्ण होने की रिपोर्ट है, हालांकि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में खराबी की रिपोर्ट कई राज्यों से मिली जिसके कारण कुछ जगहों पर कुछ देर मतदान बंद रहा. पश्चिम बंगाल के उत्तरी इलाके के तीन लोकसभा क्षेत्रों में हिंसा की कई घटनाओं के बावजूद 76 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ.

रायगंज संसदीय क्षेत्र में मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) सांसद व उम्मीदवार मोहम्मद सलीम पर कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने हमला किया. उन्होंने वहां दोबारा चुनाव कराने की मांग की है. उधर, दार्जिलिंग में मतदान केंद्र के भीतर झगड़े में ईवीएम को भी तोड़ा गया. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पर विपक्षियों पर हमले करने का आरोप लगाया है, हालांकि सत्ताधारी पार्टी ने आरोप का खंडन किया है.

कर्नाटक में गर्मी और धूलभरी हवाओं के चलने की परवाह किए बगैर भारी तादाद में मतदाओं ने मतदान केंद्रों पर जाकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया और 60 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ. प्रदेश के 28 में से 14 संसदीय क्षेत्र के लिए गुरुवार को मतदान हुआ. कर्नाटक में मुख्य मुकाबला कांग्रेस-जनता दल (एस) गठबंधन और भाजपा के बीच है.

तमिलनाडु में भी मतदान की रफ्तार तेज रही
तमिलनाडु में भी मतदान की रफ्तार तेज रही. प्रदेश की 39 लोकसभा सीटों में से 38 पर चुनाव हो रहे हैं. वेल्लोर में चुनाव स्थगित हो गया है. इस चरण में तमिलनाडु की 18 विधानसभा सीटों के लिए भी मतदान हुए.तमिलनाडु में मुख्य मुकाबला अन्नाद्रमुक और द्रमुक की अगुवाई वाले गठबंधनों के बीच है. प्रदेश में गुरुवार को 63 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ. पुडुचेरी की भी एकमात्र लोकसभा सीट के लिए मतदान हुआ.

ओडिशा में आरंभ में मतदान की रफ्तार मंद रहने के बाद धीरे-धीरे रफ्तार तेज हो गई और करीब 64 फीसदी मतदान हुआ. इस चरण में प्रदेश की पांच लोकसभा सीटों के साथ-साथ विधानसभा की 35 सीटों के लिए मतदान हुए. ओडिशा में सत्ताधारी पार्टी बीजद ने कहा कि वह सत्ता में वापसी को लेकर आश्वस्त है, लेकिन भाजपा का दावा है कि उसे जीत मिलने जा रही है.

बिहार में लोकसभा की 40 सीटों में से पांच सीटों पर इस चरण में मतदान में 62 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. अधिकारियों के अनुसार, प्रदेश में मतदान शांतिपूर्ण रहा. हालांकि एक मतदान केंद्र पर आगजनी की घटना हुई और विभिन्न दलों के समर्थकों के बीच झड़पें हुईं. प्रदेश के पांचों लोकसभा क्षेत्रों के दर्जनभर गांवों में लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया. वे विकास की कमी की वजह से नाराज हैं.

उत्तर प्रदेश में 62.3 फीसदी मतदान हुआ. प्रदेश की आठ लोकसभा सीटों के लिए मतदान हुए, जिनमें मथुरा, हाथरस, अमरोहा, आगरा, फतेहपुर-सीकरी, अलीगढ़, नगीना और बुलंदशहर शामिल हैं.

महाराष्ट्र में 48 लोकसभा क्षेत्रों में से 10 पर वोट डाले गए. शुरुआत में मतदान की रफ्तार सुस्त रहने के बाद रफ्तार पकड़ी और करीब 57 फीसदी मतदान हुआ. अकोला लोकसभा चुनाव क्षेत्र में एक मतदाता ने मतदान करते समय ईवीएम को तोड़ दिया. मतदाता श्रीकृष्ण घायरे को हिरासत में ले लिया गया. पुलिस ने बताया कि इस कार्य के पीछे उसकी मंशा के बारे में तत्काल पता नहीं चला.

बाद में चुनाव अधिकारी ने बताया कि उन्होंने सिर्फ बैलट युनिट तोड़ा था और वीवीपैट का कंट्रोल युनिट सुरक्षित था. छत्तीसगढ़ के महासमुंद, राजनंदगांव और कांकेर में गुरुवार को करीब 71 फीसदी मतदान हुआ. मतदान कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहा सिर्फ कांकेर में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी जहां अंता गढ़ मतदान केंद्र पर दिल का दौरा पड़ने से एक स्कूल अध्यापक का निधन हो गया. लोकसभा चुनाव के इस चरण में असम के पांच और मणिपुर के एक संसदीय क्षेत्र में भी मतदान हुआ.

(इनपुट-आईएएनएस)