रांची: पूर्व लोकसभा उपाध्यक्ष और आठ बार लोकसभा सांसद रहे करिया मुंडा का भारतीय जनता पार्टी द्वारा टिकट काट दिया गया है. झारखंड से लोकसभा चुनाव में उनका टिकट काटे जाने पर करिया मुंडा निराश हैं. इतने निराश कि उन्होंने टिकट जाने पर गांव जाकर खेती करने का फैसला किया है.Also Read - IPL 2021- PBKS vs RR Match Report and Highlights: आखिरी ओवर में जीती बाजी हारा पंजाब किंग्स, KL Rahul और Mayank Agarwal का प्रयास बेकार

कई वरिष्ठ नेताओं के लिए ये चुनाव भारी पड़ रहा है. करिया मुंडा भी उन्हीं में से एक हैं. इस बार बीजेपी ने उन्हें नजर अंदाज़ कर दिया. टिकट जाने के बाद रविवार को करिया मुंडा ने कहा कि वह अब खेती की ओर लौटेंगे. उन्होंने कहा कि मैं कुछ और हासिल करने नहीं, बल्कि जनता की सेवा करने राजनीति में आया था. बता दें कि भाजपा उम्मीदवारों की सूची में करिया मुंडा की जगह पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अर्जुन मुंडा को टिकट दिया गया है. Also Read - Gujarat News: गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह से 21,000 करोड़ रुपये मूल्य की हेरोइन जब्त

चुनावी बाजी पलटने में माहिर प्रोफेशनल रणनीतिकार, पर्दे के पीछे ऐसे कर रहे काम Also Read - Live Scores and Updates PBKS vs RR IPL 2021: आखिरी ओवर में 4 रन नहीं बना पाया पंजाब, राजस्‍थान को मिली 2 रन से जीत

करिया मुंडा 1977 में पहली बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए थे. वह 2009 में लोकसभा उपाध्यक्ष बने थे. निराश मुंडा ने संवाददाताओं से कहा, “मैं खेती से लोकसभा गया था. मैं खेती की ओर लौटूंगा. मैं लोगों की सेवा के लिए राजनीति में था न कि निजी हित के लिए. भगवान ने मुझे बहुत कुछ दिया है.”