नई दिल्लीः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा है कि अगर पार्टी उन्हें लोकसभा में कांग्रेस पार्टी का नेता पद की पेशकश करती है तो वह इस दायित्व को निभाने के लिए तैयार हैं. तिरुवनंतपुरम से लगातार तीसरी बार सांसद चुने गए थरूर ने सोमवार को एक टीवी चैनल से कहा कि अगर पेशकश की गई, तो मैं कांग्रेस का लोकसभा में नेता बनने के लिए तैयार हूं. उन्होंने स्वीकार किया कि कांग्रेस की मुख्य चुनावी थीम ‘न्याय’ को मतदाताओं के समक्ष ठीक से नहीं रखा गया और इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की ‘नरम हिंदुत्व’ की नीति की ओलाचना की.

उन्होंने हालांकि जोर देकर कहा कि राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बने रहना चाहिए. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पार्टी उनकी सहायता के लिए क्षेत्रीय कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति पर विचार कर सकती है. थरूर 2009 से तिरुवनंतपुरम संसदीय सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. 2014 में उन्होंने भाजपा के ओ. राजगोपाल के विरुद्ध मात्र 15,000 मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी.

इस बार वह एक लाख वोट के अंतर से जीते हैं. यहां पर सत्तारूढ़ एलडीएफ, विपक्षी यूडीएफ और भाजपा के बीच कड़ा मुकाबला था. कड़े मुकाबले में थरूर ने अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी और भाजपा-राजग के उम्मीदवार कुम्मनम राजशेखरन को एक लाख वोटों से हराया. सत्ताधारी एलडीएफ के उम्मीदवार और भाकपा विधायक सी दिवाकरण को 2.58 लाख वोट मिले.

(इनपुट-आईएएनएस)