भोपाल: भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को कहा कि भाजपा की रूचि कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस नीत मध्यप्रदेश सरकार को गिराने में नहीं है. लेकिन यदि वह अपने आप गिर जाये तो क्या कर सकते हैं.

‘प्रेस से मिलिये’ कार्यक्रम में मध्यप्रदेश में भाजपा द्वारा अगली सरकार बनाए जाने के बारे में पूछने पर चौहान ने कहा कि भाजपा किसी प्रकार की तोड़फोड़ और खरीद फरोख्त में विश्वास नहीं रखती है. हम ऐसा नहीं करेंगे, लेकिन कांग्रेस के अंतर्विरोध एवं जिन्होंने उन्हें समर्थन दिया है, उनके कुछ कारणों से कुछ भी हो सकता है. उन्होंने कहा कि हाल ही के लोकसभा चुनाव के दौरान टिकट आवंटन के बाद गुना लोकसभा सीट के बसपा प्रत्याशी (लोकेन्द्र सिंह) कांग्रेस में शामिल हो गये. अब मायावती जी की दृष्टि वक्र हो जाये और वो कुछ करे, या अंदरूनी कुछ हो जाये .. . नहीं तो मैं सच कहता हूं अगर हम चाहते तो मध्यप्रदेश में सरकार (कांग्रेस की) नहीं बनने देते.

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की हार पर बोले CM कमलनाथ, जनता तक नहीं पहुंचा पाए अपनी बात

बसपा प्रत्याशी के कांग्रेस में शामिल होने से मायावती नाराज
गौरतलब है कि बसपा प्रत्याशी लोकेन्द्र सिंह के कांग्रेस में शामिल होने की घटना पर नाराजगी जाहिर करते हुए मायावती ने मध्यप्रदेश की कांग्रेस नीत सरकार से अपना समर्थन वापस लेने की धमकी दी थी. गौरतलब है कि मध्यप्रदेश विधानसभा की 230 सीटों के लिए पिछले साल नवंबर में हुए चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला था. कांग्रेस 114 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी उभर कर आई थी. कांग्रेस ने बसपा के दो विधायकों, सपा के एक विधायक एवं चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई है. भाजपा 109 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर रही.

भाजपा ने कई राज्यों में 50 फीसदी से अधिक मत हासिल किए, कांग्रेस सिर्फ राज्‍य में सिमटी