नई दिल्ली. देश में बेरोजगारों की बढ़ती तादाद और रोजगार की समस्या की तरफ केंद्र सरकार का ध्यान खींचने के लिए लोकसभा चुनाव से बढ़कर कोई और समय नहीं हो सकता. इसके मद्देनजर समाजवादी पार्टी के एक उम्मीदवार ने पीएम नरेंद्र मोदी को एक लाख बायोडाटा यानी CV भेजने का निर्णय लिया है. बिहार के काराकाट लोकसभा सीट से सपा प्रत्याशी घनश्याम तिवारी की योजना है कि पीएम मोदी को एक लाख बेरोजगार युवाओं की CV भेजी जाएगी, ताकि प्रधानमंत्री को देश में बेरोजगारों की स्थिति का पता चल सके. तिवारी का मानना है कि एक लाख बेरोजगार युवाओं की CV देखने के बाद पीएम मोदी को पता चलेगा कि देश में बेरोजगारी किस हद तक पहुंच गई है.

बिहार में लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में 8 लोकसभा सीटों पर मतदान होना है. इनमें नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकाट और जहानाबाद लोकसभा सीटों पर चुनाव होना है. आखिरी चरण में नरेंद्र मोदी की दो रैलियां बिहार में होनी हैं. इनमें से एक 14 मई को सासाराम और बक्सर लोकसभा सीटों के लिए होगी, जबकि दूसरी जनसभा 15 मई को पाटलिपुत्र लोकसभा सीट के लिए होनी है. लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण से पहले पीएम मोदी की इन जनसभाओं के मद्देनजर सपा नेता घनश्याम तिवारी ने उन्हें एक लाख CV भेजने का फैसला किया है.

धर्मेंद्र ने कहा- सनी देओल को चुनाव नहीं लड़ने देता अगर मालूम होती ये बात

धर्मेंद्र ने कहा- सनी देओल को चुनाव नहीं लड़ने देता अगर मालूम होती ये बात

अंग्रेजी वेबसाइट इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, काराकाट सीट से सपा उम्मीदवार घनश्याम तिवारी अपने संसदीय क्षेत्र के एक लाख बेरोजगार युवकों की CV जुटाकर पीएम मोदी को भेजेंगे. तिवारी ने इकोनॉमिक टाइम्स के साथ बातचीत में कहा कि देश में बेरोजगारी की समस्या से नौजवान परेशान हैं. उन्होंने कहा, ‘देश में बेरोजगारी की समस्या की ओर पीएम का ध्यान दिलाने के लिए मैं एक लाख युवाओं की CV जुटा रहा हूं. केंद्र में सत्तारूढ़ राजग सरकार इस समस्या को अनदेखा करती रही है. इसलिए इस चुनाव में रोजगार की समस्या की ओर पीएम का ध्यान आकृष्ट करने के लिए मैंने CV भेजने का निर्णय लिया है.’

अखबार के अनुसार, यूपी में जहां सपा और बसपा गठबंधन कर भाजपा को टक्कर दे रही है, वहीं बिहार में समाजवादी पार्टी ने इस चुनाव में सिर्फ एक सीट, काराकाट लोकसभा क्षेत्र में अपना उम्मीदवार उतारा है. वहीं, बहुजन समाज पार्टी ने राज्य की 20 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं. अखबार के इस सवाल पर कि सपा ने बिहार में बसपा को समर्थन क्यों नहीं दिया, घनश्याम तिवारी ने कहा, ‘हम यहां सिर्फ एक सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं. बाकी अन्य सीटों पर यह जनता के ऊपर है कि वह किसे चुनती है.’

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com