नई दिल्ली: भाजपा ने सोमवार को एक वीडियो पर स्तब्धता जताई, जिसमें बीएसएफ के बर्खास्त सिपाही तेजबहादुर यादव प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कथित तौर पर हत्या करने की बात कर रहे हैं. वाराणसी से सपा उम्मीदवार के तौर पर यादव के नामांकन को चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया था. भाजपा प्रवक्ता जी वी एल नरसिम्हा राव ने कहा कि वीडियो से पता चलता है कि अपनी हार को देखते हुए राजनीतिक विरोधी हिंसक तरीकों पर उतर आए हैं.

कुछ खबरिया चैनलों ने वीडियो दिखाया, लेकिन इसकी सत्यता प्रमाणित नहीं हुई है.

कथित वीडियो का हवाला देते हुए राव ने आरोप लगाए कि तेजबहादुर को यह भी स्वीकार करते देखा जा सकता है कि उसके संबंध हिज्बुल मुजाहिद्दीन और लश्कर ए तैयबा जैसे आतंकवादी संगठनों से हैं.

राव ने कहा कि महाराष्ट्र पुलिस ने पिछले वर्ष बयान जारी कर मोदी की हत्या में शहरी नक्सलियों के षड्यंत्र के बारे में बताया था. उन्होंने आरोप लगाए, यह निराशाजनक है कि प्रधानमंत्री की हत्या के लिए एक और षड्यंत्र उस व्यक्ति ने किया है, जिसे वाराणसी से समाजवादी पार्टी ने लोकसभा का उम्मीदवार बनाया है. स्तब्ध करने वाले वीडियो में तेजबहादुर यादव मोदी की हत्या के लिए 50 करोड़ रुपए मांगते दिख रहे हैं.