इटारसी: मध्‍य प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीलंका सरकार द्वारा वहां बम धमाके के बाद मुस्लिम उपदेशक जाकिर नाइक के टीवी चैनल पर लगाए गए प्रतिबंध का जिक्र करते हुए कहा कि केंद्र की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने पुलिस अधिकारियों को आतंकवाद पर संबोधित करने के लिए उसे आमंत्रित किया था. इसके साथ ही मोदी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्वियज सिंह पर उसके (नाइक) दरबार में जाकर उसकी तारीफ करने का भी आरोप लगाया.

इटारसी में एक आमसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने कहा कि श्रीलंका सरकार ने बम विस्फोटों के बाद जाकिर नाइक के टीवी चैनल पर प्रतिबंध लगा दिया है. उन्होंने सवाल किया, ” क्या आप जानते हैं, ये जाकिर नाइक है कौन? ये वही जाकिर नाइक है, जिसके दरबार में जाकर दिग्गी राजा (कांग्रेस नेता दिग्वियज सिंह) उसकी तारिफ करते नहीं थकते थे. ये वही जाकिर नाइक है, जिसको कांग्रेस की सरकार ने हमारे देश के पुलिस अफसरों को संबोधित करने के लिए बुलाया था और वह भी आतंकवाद के मुद्दे पर.”

प्रधानमंत्री ने लोगों से सवाल किया कि ये वोट बैंक की पराकाष्ठा है या नहीं. कांग्रेस के लोग जाकिर नाइक को शांति का दूत दिखाने का प्रयास कर करते हैं. उन्होंने कहा, ”आप मुझे बताइए, क्या देश जाकिर नाइक जैसे लोगों को आगे बढ़ाने वाले, उनको कंधे पर लेकर नाचने वाले, ऐसे खलनायकों को माफ करेगा क्या? मध्यप्रदेश माफ करेगा क्या? भोपाल माफ करेगा क्या? अरे, चुन-चुन कर हिसाब लोगे या नहीं?”

मोदी ने आतंकवाद के मद्दे पर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस उन लोगों के साथ खड़ी है जो जम्मू कश्मीर से सेना हटाना चाहते है. सैनिकों को मिला विशेषाधिकार आफ्स्पा भी हटाना चाहते हैं और जो जम्मू-कश्मीर के लिए अलग प्रधानमंत्री चाहते हैं. उन्होंने कहा, ”जिस पार्टी (कांग्रेस) ने देश पर इतने साल राज किया वह किस तरह देश विरोधी हरकतों पर उतर आई है.” उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि देश की जनता देश से आतंकवाद समाप्त करने के लिए भाजपा को वोट करेगी.