नई दिल्ली: भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को लेकर दिये गये बयान के लिए पार्टी ने शनिवार को राहुल गांधी पर निशाना साधा तथा राजनीतिक विमर्श का स्तर गिराने का आरोप लगाया, वहीं वरिष्ठ भाजपा नेता सुषमा स्वराज ने कांग्रेस अध्यक्ष से भाषणों में भाषा की गरिमा बनाये रखने को कहा. राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आडवाणी को अपमानित करने का आरोप लगाया था. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने आरोप लगाया कि आगामी चुनावों में हार भांपने के बाद विपक्षी दल और उसके नेता हताश हो गये हैं और भाजपा नेताओं के लिए अपशब्द बोल रहे हैं.

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को महाराष्ट्र के चंद्रपुर में एक रैली में आरोप लगाया था, ‘‘भाजपा हिंदुत्व की बात करती है. हिंदुत्व में गुरू सर्वोच्च होता है. वह गुरू शिष्य परंपरा की बात करती है. मोदी के गुरू कौन हैं? आडवाणी हैं. जूता मार के स्टेज से उतार दिया.’’ गांधी के इस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सुषमा स्वराज ने ट्वीट किया, ‘‘ राहुल जी – अडवाणी जी हमारे पिता तुल्य हैं. आपके शब्दों ने हमें बहुत आहत किया है. कृपया अपने भाषण में गरिमा बनाये रखें.’’

पूर्व सेना उपप्रमुख सरत चंद भाजपा में शामिल, सुषमा स्वराज ने किया स्वागत

गोयल ने पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है. एक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष इस तरह की अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं जो खुद को भविष्य का प्रधानमंत्री पेश कर रहे हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह सभ्य तरीका नहीं है. इससे साबित होता है कि संसद में गले लगना और फिर अपने साथियों की तरफ आंख मारना ही उनका सच्चा चेहरा है और देश इस पाखंड को समझ गया है. उनकी कलई खुल गयी है.’’