वाराणसी (उत्तर प्रदेश). पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान से पहले ही सीटों का वह आंकड़ा छू लिया, जिसके दम पर केंद्र में एक बार फिर से सरकार बनाई जा सकती है. विदेश मंत्री ने बुधवार को कहा कि भाजपा लोकसभा चुनाव के छह चरणों के बाद पहले से ही बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है. साथ ही उन्होंने यहां मतदाताओं से अपील की कि वे पीएम नरेंद्र मोदी को इस सीट से फिर से बड़े अंतर से जिताएं. स्वराज ने महिलाओं की मोटरसाइकिल रैली को हरी झंडी दिखाते हुए कहा, “पिछले पांच साल में आपके और मोदी के बीच संबंध बहुत मजबूत हुए हैं…एक परिवार की तरह.” आपको बता दें कि वाराणसी में सातवें एवं अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होना है.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

वाराणसी में सुषमा स्वराज ने कहा, “आज मैं प्रधानमंत्री मोदी एवं राजग सरकार की प्रतिनिधि के तौर पर विभिन्न क्षेत्रों में किए गए कार्यों का ब्योरा देने आई हूं.” स्वराज ने राष्ट्र सुरक्षा, अर्थव्यवस्था एवं विदेश मामलों को लेकर सरकार का प्रदर्शन गिनाया. उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा पर सरकार की सफलता को दर्शाने के लिए बालाकोट में आतंकवादी ठिकानों पर सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट हवाई हमले की ओर इशारा किया. सुषमा स्वराज ने कहा, “वर्ष 2008 में मुंबई आतंकी हमले में मारे गए लोगों में 40 दूसरे 14 देशों के थे. तब कांग्रेस सरकार इसे अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बनाकर पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर अलग-थलग कर सकती थी, लेकिन वह सफल नहीं हुई. जबकि मोदी सरकार ने उरी व पुलवामा हमले का बदला सर्जिकल व एयर स्ट्राइक से लिया. वैश्विक स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग किया. अबूधाबी में ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक स्टेट के सम्मेलन में पाकिस्तान के विरोध के बावजूद भारत को बुलाया गया. मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित कराया गया.”

पीएम मोदी की चुनावी रैलियां: यूपी पर सबसे ज्यादा जोर, दूसरे नंबर पर रहा बंगाल

पीएम मोदी की चुनावी रैलियां: यूपी पर सबसे ज्यादा जोर, दूसरे नंबर पर रहा बंगाल

विदेश मंत्री ने अपने भाषण में विदेश में भारतीयों की मदद की अपनी कोशिशों का भी उल्लेख किया. वहीं, आर्थिक मोर्चे पर उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई जबकि संप्रग शासन के दौरान इसकी गिनती पहली पांच कमजोर अर्थव्यवस्थाओं में होती थी. पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत राजीव गांधी की एक टिप्पणी कि गरीबों के कल्याण के लिए दिए गए प्रत्येक रुपए का केवल 15 पैसा उन तक पहुंच पाता है, का संदर्भ देते हुए स्वराज ने कहा कि राजग सरकार ने इस ‘कमीशन व्यवस्था’ को पूरी तरह समाप्त किया है. उन्होंने मतदाताओं से बड़े अंतर के साथ मोदी को जिताने की अपील की.”

(इनपुट – एजेंसियां)