गोसाईगंज (अयोध्या): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को महागठबंधन पर जमकर हमला बोला. उन्‍होंने आरोप लगाया कि सपा-बसपा और कांग्रेस का आतंकवाद पर नरमी का पुराना रिकॉर्ड रहा है. मोदी ने कहा कि आतंकी कमजोर सरकार के इंतजार में और महामिलावटी केंद्र में मजबूर सरकार बनाने की फिराक में हैं. पीएम मोदी ने रामनगरी अयोध्या से 25 किलोमीटर दूर गोसाईगंज इलाके में रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘श्रीलंका में क्या हुआ, कुछ यही स्थिति 2014 से पहले भारत में थी. अयोध्या और फैजाबाद में कैसे-कैसे बम धमाके हुए, हम इसे भूल सकते हैं क्या? वे दिन हम कैसे भूल सकते हैं जब देश में आए दिन कहीं न कहीं आतंकी हमला होता था. बीते पांच वर्ष में इस तरह के बम धमाकों की खबरें आनी बंद हो गई हैं.

मोदी ने कहा, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि आतंकी खत्म हो गए हैं . हमारे पड़ोस में आतंक की फैक्टरी अभी भी चल रही है, वहां एक ही उद्योग है आतंक को एक्सपोर्ट करना . ये आतंकी देश में एक कमजोर सरकार के इंतजार में हैं. ये मौके की ताक में बैठे हैं. जैसे सड़कों पर लिखा रहता है- सावधानी हटी, दुर्घटना घटी. आतंकवाद का खेल भी ऐसा है, सावधानी हटी नहीं, मौत का बुलावा आया नहीं.’

मोदी ने कहा, यह बात इसलिए अहम है क्योंकि सपा, बसपा या कांग्रेस हो या कोई भी महामिलावटी हो, इनका आतंक पर नरमी का पुराना रिकॉर्ड रहा है. हमारी सुरक्षा एजेंसियां आतंक के मददगारों को पकड़ती थीं, ये वोट के लिए उन्हें छोड़ देते थे. आज ये महामिलावटी केंद्र में एक बार फिर मजबूर सरकार बनाने की फिराक में हैं. उन्होंने लोगों से कहा, लेकिन आपको पूरी तरह से चौकन्ना रहना है . हम एक नए हिंदुस्तान के रास्ते पर चल पड़े हैं, जो छेड़ता नहीं है, लेकिन कोई छेड़ेगा तो छोड़ता भी नहीं है.

मोदी ने कहा, खतरा सीमा के भीतर हो या फिर सीमा पार, यह नया हिन्दुस्तान घर में घुसकर मारेगा. गोली का जवाब गोले से देंगे. भारत सुरक्षित रहेगा तभी हमारे सपने, हमारी आशाएं और आकांक्षाएं पूरी हो पाएंगी.’

प्रधानमंत्री ने भाजपा के लिए वोट मांगते हुए कहा, ‘हमारी संस्कृति और हमारे संस्कार सुरक्षित रहें, आतंक और अत्याचार का अंत हो, इसके लिए आपको कमल के फूल पर बटन दबाना है. आप जब कमल के फूल पर बटन दबायेंगे तो इसका मतलब आपके सपने साकार होंगे.

मोदी ने सपा-बसपा पर हमला बोलते पूछा, ‘लोहिया की बात करने वालों को कभी गरीबों और श्रमिकों को चिंता करनी चाहिए थी या नहीं करनी चाहिए थी, बहुजन हिताय और बाबा साहब की बात करने वालों को श्रमिकों की चिंता करनी चाहिए थी या नहीं करनी चाहिए थी. क्या पिछले साठ-सत्तर साल से हर चुनाव में गरीबी हटाओ का नारा उछालने वाली कांग्रेस को श्रमिकों की चिंता करनी चाहिये थी या नहीं करनी चाहिए थी. हमारे देश में 40 करोड़ से ज्यादा श्रमिकों की इन पार्टियों ने कभी परवाह नहीं की. उन्होंने श्रमिकों, गरीबों को वोट बैंक में बांटकर सिर्फ और सिर्फ अपना और परिवार का फायदा कराया.

मोदी ने कहा, जब कोरिया की प्रथम महिला अयोध्या में मुख्य अतिथि बनकर आती हैं तो उसकी चर्चा पूरे देश में होती है. जब नेपाल के जनकपुरी से अयोध्या के लिए बस की हरी झंडी दिखाई जाती है तो उसकी चर्चा पूरी दुनिया में होती है. अयोध्या में दीप तो हजारों वर्षों से जलते आए हैं, लेकिन अब जो दीपावली मनाई जाती है, वह दुनियाभर में चर्चा का विषय बनती है.’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘यह मर्यादा पुरुषोत्तम राम की धरती है. देश के स्वाभिमान की धरती है. देश में यही स्वाभिमान पिछले पांच साल में और बढ़ा है. हम देश के 130 करोड़ लोगों की भुजाओं को साथ लेकर चले हैं. अब इन्हीं भुजाओं के सामर्थ्य पर हम नए भारत के निर्माण की ओर बढ़ रहे हैं.’ मोदी ने अपना भाषण जय श्री राम के नारे के साथ समाप्त किया. इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सभा को संबोधित किया .