इटानगर/गुवाहाटी/अगरतला. लोकसभा चुनाव और कुछ राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद से ही विभिन्न पार्टियों के नेताओं का दल-बदल अभियान जारी है. न तो भाजपा और न ही कांग्रेस, दोनों में से कोई भी पार्टी यह कहने में सक्षम है कि उसकी पार्टी के नेताओं में ‘असंतोष’ नहीं है. इसलिए केरल में कांग्रेस के एक दिग्गज नेता भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लेते हैं, तो वहीं उत्तराखंड में भाजपा के वरिष्ठ नेता के पुत्र को कांग्रेस में खूबियां नजर आने लगती हैं. बहरहाल, सियासी दल-बदल की इन छिटपुट घटनाओं को छोड़ दीजिए, बड़ी अदला-बदली पर फोकस करिए. जी हां, देश के पूर्वोत्तर इलाके से मंगलवार को दो खबरें आईं, जिनसे कम से कम भाजपा को तगड़ा झटका लग सकता है. पहली खबर त्रिपुरा की है, जहां के तीन भाजपा नेताओं ने पार्टी को ऐन चुनाव के मौके पर छोड़ दिया है. वहीं, दूसरी खबर रात में आई कि अरुणाचल प्रदेश सरकार के 2 मंत्री और भाजपा के 12 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है.

अरुणाचल प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा को उस वक्त जोर का झटका लगा, जब दो मंत्रियों और 12 विधायकों सहित कुल 15 नेताओं ने मंगलवार को पार्टी छोड़कर नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) में शामिल होने का एलान कर दिया. राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा द्वारा पार्टी के राज्य महासचिव जारपुम गामलिन, गृहमंत्री कुमार वाई, पर्यटन मंत्री जारकर गामलिन और कई विधायकों को टिकट नहीं देने के बाद बड़े पैमाने पर पार्टी छोड़ने का यह कदम सामने आया है. राज्य की 60 विधानसभा सीटों में से 54 के लिए प्रत्याशियों के नामों पर भाजपा के संसदीय बोर्ड ने रविवार को मुहर लगाई. राज्य में 11 अप्रैल को लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव भी हो रहे हैं.

Lok Sabha Elections 2019: बीवी को लोकसभा पहुंचाने की जुगत में जुटे हैं बिहार के बाहुबली

सोमवार को जारपुम गामलिन ने भाजपा की अरुणाचल इकाई के अध्यक्ष तापिर गाओ को अपना इस्तीफा भेजा. वह सोमवार सुबह से ही गुवाहाटी में हैं, जहां मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने उनसे मुलाकात की. एनपीपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “जारपुम, जारकर, कुमार वाई और भाजपा के 12 मौजूदा विधायकों ने एनपीपी महासचिव थामस संगमा से मंगलवार को मुलाकात की और एनपीपी में शामिल होने का फैसला किया.” उन्होंने कहा कि इन नेताओं के आने से एनपीपी मजबूत होगी. इस बीच, एनपीपी ने पूर्वोत्तर राज्यों की सभी 25 संसदीय सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है. पार्टी ने मेघालय के प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी है. अन्य सीटों की भी सूची जल्द जारी की जाएगी.

लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा की रणनीति- विदेशी 'मेहमान' भी संभालेंगे प्रचार का काम, कांग्रेस लड़ेगी जमीनी लड़ाई

लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा की रणनीति- विदेशी 'मेहमान' भी संभालेंगे प्रचार का काम, कांग्रेस लड़ेगी जमीनी लड़ाई

इधर, लोकसभा चुनावों से पहले त्रिपुरा में भारतीय जनता पार्टी के नेता सुबाल भौमिक व दो अन्य वरिष्ठ नेता मंगलवार को कांग्रेस में शामिल हो गए. दो अन्य नेता पूर्व मंत्री प्रकाश दास व तेजतर्रार माने जाने वाले देबाशीष सेन हैं. त्रिपुरा कांग्रेस अध्यक्ष प्रद्योत बिक्रम माणिक्य देबबर्मन व एआईसीसी सचिव भूपेन बोरा ने एक मीडिया कॉन्फ्रेंस में तीनों नेताओं का स्वागत किया. भौमिक, भाजपा में उपाध्यक्ष पद पर थे. वह भाजपा में 2015 में शामिल हुए, जबकि दास व सेन 2017 में क्रमश: कांग्रेस व मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से भाजपा में शामिल हुए थे.

(इनपुट – एजेंसी)