अमेठी: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा चुनाव के लिए उत्‍तर प्रदेश की अमेठी सीट से अपना नामांकन फॉर्म जमा कर दिया है. इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उनके साथ मौजूद रहे. इस सीट पर उनका मुकाबला कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी है, जिन्होंने बुधवार को यहां से अपना नामांकन किया था. ईरानी ने गौरीगंज में जिलाधिकारी कार्यालय में अपना नामांकन भरा. ईरानी ने नामांकन भरने से पहले रोडशो के जरिए शक्ति प्रदर्शन किया. Also Read - Corona Pandemic: PM मोदी ने 4 राज्‍यों के मुख्यमंत्रियों से कोविड-19 की स्थिति पर की बात

इससे पहले उन्होंने लगभग चार किलोमीटर का रोड शो भी निकाला. इस दौरान उनके समर्थक नारेबाजी करते रहे. रास्ते में उन्होंने एक मंदिर में प्रार्थना की और भाजपा कार्यालय पर आयोजित पूजा में शामिल होने के लिए चली गईं. साल 2014 में मोदी लहर के बावजूद वे राहुल गांधी से 1.07 लाख मतों से हार गई थीं. Also Read - Congress MP Dies of COVID-Related Complications: कोरोना की वजह से राहुल गांधी के करीबी कांग्रेस सांसद की मौत

ईरानी ने मुख्यमंत्री योगी के साथ उसी मार्ग पर रोडशो किया, जिस पर कल पर्चा दाखिल करने से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सपरिवार रोडशो किया था. गौरीगंज के बूढनमाई मंदिर से शुरू हुए लगभग चार किलोमीटर लंबे रोडशो में लोगों की भारी भीड़ थी. रोड शो से पहले ईरानी ने पति जुबिन ईरानी के साथ पूजा अर्चना की. Also Read - UP: CM बनने के बाद पहली बार AMU पहुंचे योगी आदित्य नाथ, कोरोना पर की अहम बैठक

रोडशो के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह देखा गया. ढोल नगाड़े बजाते हुए कार्यकर्ता नाच रहे थे. महिलाओं की भी भागीदारी कम नहीं रही. कार्यकर्ता फूल बरसा रहे थे. उनके गले में भगवा रंग का अंगौछा था तो सर पर ‘मैं भी चौकीदार हूँ’ की टोपी लगी थी. युवा भगवा रंग में नारों से लिखी टीशर्ट व जैकेट पहने हुए थे. अधिकतर महिलाएं भी भगवा साड़ी में नजर आईं.

रोडशो के रास्ते में जगह जगह बड़े पोस्टर लगे थे, जिन पर लिखा था.. ‘अबकी बार अमेठी हमार’ और ‘फिर एक बार, मोदी सरकार.’

तपतपाती धूप के बावजूद रोडशो के रास्ते पर महिलाएं और बच्चे घर की छतों पर खड़े होकर ईरानी और योगी पर फूल बरसा रहे थे. दोनों नेता हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन स्वीकार कर रहे थे. रोडशो में अमेठी के विधायकों के साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री सुरेश पासी और मोती सिंह मौजूद थे.