लखनऊ: लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में उत्तर प्रदेश की आठ सीटों पर मतदान गुरुवार की सुबह सात बजे शुरू होने के बाद शांतिपूर्ण तरीके से जारी है और पूर्वाह्न 11 बजे तक करीब 24.31 फीसद वोट पड़ चुके हैं. उत्‍तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल. वेंकटेश्वर लू ने बताया कि दूसरे चरण में राज्य की आठ सीटों नगीना, अमरोहा, बुलंदशहर, अलीगढ़, हाथरस, मथुरा, आगरा और फतेहपुर के लिए मतदान सुबह सात बजे शुरू हो गया, जो शाम छह बजे तक चलेगा. पूर्वाह्न 11 बजे तक इन सभी सीटों पर औसतन 24.31 प्रतिशत मतदान हो चुका है.

 

उन्होंने बताया कि पूर्वाह्न 11 बजे तक नगीना में 23.78 प्रतिशत, अमरोहा में 24.64, बुलंदशहर में 24.94, अलीगढ़ में 23, हाथरस में 25.93, मथुरा में 23.71, आगरा में 25 और फतेहपुर सीकरी में 23.47 प्रतिशत वोट पड़ चुके हैं. मतदान शांतिपूर्ण तरीके से हो रहा है. मतदाताओं में खासा जोश नजर आ रहा है. दिन चढ़ने के साथ गर्मी बढ़ने की सम्भावना के बीच मतदान केन्द्रों पर सुबह से ही मतदाताओं की लम्बी—लम्बी कतारें लग गयी थीं. कई स्थानों पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों में गड़बड़ी के कारण मतदान बाधित होने की खबरें हैं. बुलंदशहर में कई स्थानों पर जबकि अलीगढ़ और नगीना में भी कुछ जगहों पर ऐसी शिकायतें सामने आयी हैं. हालांकि चुनाव आयोग ने इनकी पुष्टि नहीं की है.

योगी पर मायावती ने उठाए सवाल, जवाब मिला, ‘लिखा भाषण पढ़ती हैं तो आयोग के ऑर्डर की कॉपी भी पढ़िए’

दूसरे चरण में हैं कुल 85 उम्‍मीदवार
द्वितीय चरण में 85 उम्मीदवारों में अपने प्रतिनिधि के चयन के लिए 76,36,857 पुरुषों और 65,56,504 महिला समेत कुल 1,41,94,132 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे. मतदान के लिये 8751 मतदान केन्द्र तथा 16163 मतदेय स्थल बनाये गये हैं. इनमें से 3314 मतदेय स्थलों को संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है. द्वितीय चरण में आगरा लोकसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 19 लाख 34 हजार 850 मतदाता जबकि नगीना क्षेत्र में सबसे कम 15 लाख 84 हजार 111 मतदाता हैं. सुरक्षा के लिये पर्याप्त बल तैनात किये गये हैं. मतगणना 23 मई को होगी. इस बार शत प्रतिशत मतदेय स्थलों पर वीवीपैट का प्रयोग किया जाएगा. स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित करने के लिये 1346 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 187 जोनल मजिस्ट्रेट और 617 स्टैटिक मजिस्ट्रेट की तैनाती की गयी है.

प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं से की अपील, लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए जमकर करें मतदान

हेमामालिनी, राजबब्‍बर, एसपी सिंह बघेल आदि मैदान में
दूसरे चरण का चुनाव कई सियासी दिग्गजों का भाग्य तय करेगा. इनमें मथुरा से भाजपा प्रत्याशी हेमा मालिनी, फतेहपुर सीकरी से कांग्रेस उम्मीदवार राज बब्बर, आगरा से प्रदेश के कैबिनेट मंत्री एस.पी. सिंह बघेल और हाथरस से पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामजी लाल सुमन प्रमुख हैं. मथुरा में मौजूदा सांसद हेमा मालिनी का मुकाबला महागठबंधन के प्रत्याशी रालोद के नरेन्द्र सिंह और कांग्रेस के महेश पाठक से है. हेमा ने वर्ष 2014 में मथुरा सीट आसानी से जीती थी, लेकिन इस बार उन्हें कड़ी टक्कर मिलने की सम्भावना है. फतेहपुर सीकरी सीट पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पार्टी प्रत्याशी राज बब्बर की टक्कर भाजपा के राजकुमार चाहर और गठबंधन के प्रत्याशी भगवान शर्मा उर्फ गुड्डू पंडित से है. बब्बर वर्ष 2009 में इसी सीट से बहुत मामूली अंतर से चुनाव हार गये थे.

प्रधानमंत्री मोदी आज गुजरात, कर्नाटक व केरल में चुनावी जनसभा को करेंगे संबोधित

हाथरस में मुकाबला कड़ा
आगरा से प्रदेश के लघु सिंचाई मंत्री एस. पी. सिंह बघेल भाजपा प्रत्याशी के रूप में मैदान में हैं. उनका मुकाबला गठबंधन के प्रत्याशी मनोज सोनी तथा कांग्रेस की प्रीता हरित से है. हाथरस से गठबंधन ने चार बार सांसद रह चुके पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामजी लाल सुमन को उम्मीदवार बनाया है. यहां उनके मुकाबले इगलास क्षेत्र से मौजूदा भाजपा विधायक राजवीर सिंह और कांग्रेस के त्रिलोकीनाथ दिवाकर ताल ठोंक रहे हैं. अलीगढ़ सीट से भाजपा के मौजूदा सांसद सतीश गौतम एक बार फिर इसी पार्टी के टिकट पर मैदान में हैं. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को निशाने पर रखकर अक्सर सुर्खियां बटोरने वाले गौतम का मुकाबला गठबंधन के प्रत्याशी अजीत बालियान और कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व सांसद बृजेन्द्र सिंह से है.

देवगौड़ा, हेमामालिनी, डी राजा, राजबब्बर समेत अन्य प्रमुख नेताओं की किस्मत ईवीएम में होगी कैद

बुलंदशहर सीट पर बीजेपी के भोला सिंह का गठबंधन के योगेश वर्मा से टक्‍कर
बुलंदशहर सीट पर भाजपा के मौजूदा सांसद और प्रत्याशी डॉक्टर भोला सिंह का मुकाबला गठबंधन प्रत्याशी बसपा के योगेश वर्मा और कांग्रेस के बंसी पहाड़िया से है. वहीं, अमरोहा में भाजपा के वर्तमान सांसद कंवर सिंह तंवर की टक्कर गठबंधन प्रत्याशी बसपा के दानिश अली तथा कांग्रेस उम्मीदवार सचिन चौधरी से है. नगीना सीट से भाजपा के मौजूदा सांसद डॉक्टर यशवंत सिंह एक बार फिर मैदान में हैं. उनका मुकाबला पूर्व सांसद और तीन बार विधायक रह चुकीं ओमवती से है. इसके अलावा गठबंधन की तरफ से बसपा के गिरीश चंद्र भी उनके प्रमुख प्रतिद्वंद्वी हैं.