नई दिल्ली: भाजपा ने चुनाव आयोग से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को राज्य में चुनाव प्रचार से रोकने का अनुरोध किया है. बीजेपी ने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में ‘संवैधानिक तंत्र’ ध्वस्त हो गया है. कोलकाता में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हिंसा और आगजनी की घटना के बाद केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण और मुख्तार अब्बास नकवी सहित पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग पहुंचा और राज्य में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की.

मुख़्तार अब्बास नकवी ने ममता बनर्जी पर कथित तौर पर भाजपा को निशाना बनाने के लिए हिंसा में ‘सहभागी’ होने का आरोप लगाया और दावा किया कि उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के अपने कार्यकर्ताओं को भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला करने के लिए ‘उकसाया’. भाजपा प्रतिनिधिमंडल के चुनाव आयोग से मिलने के बाद नकवी ने संवाददताओं से कहा, ‘वह एक संवैधानिक पद पर हैं लेकिन असंवैधानिक टिप्पणियां कर रही हैं. अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को बदला लेने और हिंसा में शामिल होने के लिए कह रही हैं. वह सहभागी हैं. उन्हें प्रचार से तत्काल रोका जाना चाहिए.’ उन्होंने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस के ‘‘गुंडों’’ ने राज्य प्रशासन को बंधक बना लिया है और शाह के रोड शो के दौरान हिंसा इसका एक उदाहरण है.

पश्चिम बंगाल: अमित शाह के रोड शो के दौरान हिंसा, सीएम ममता बनर्जी घटनास्थल पर पहुंचीं

बता दें कि पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हिंसा हो गई. रोड शो के दौरान टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. इसके बाद मारपीट और जमकर पत्थरबाजी हुई. अमित शाह के ट्रक को भी निशाना बनाए जाने की कोशिश की गई. कई जगहों पर आगजनी भी की गई है. कॉलेज स्ट्रीट के पास हिंसा भड़क उठी, जिसमें तीन बाइकों को आग के हवाले कर दिया गया. घटना के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी घटनास्थल पर निरीक्षण करने पहुंचीं. वह विद्यासागर कॉलेज गईं, जहां ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को तोड़ दिया गया.

पीएम मोदी के भाई पुलिस एस्कॉर्ट नहीं मिलने से हुए नाराज, थाने के सामने धरने पर बैठे

टीएमसी कार्यकर्ता कलकत्ता विश्वविद्यालय के गेट पर काले झंडों के साथ जमा थे. जैसे ही रोड शो वहां से गुजरा, उन्होंने अमित शाह के खिलाफ नारे लगाए और काले झंडे दिखाए. आरोप है कि उन्होंने रोड शो पर ईंट व पत्थर फेंके. वहीं भाजपा समर्थकों पर आरोप है कि उन्होंने कॉलेज के रिसेप्शन काउंटर को तोड़ दिया और कॉलेज के छात्रों पर ईंट, पत्थर और कांच की बोतलें फेंकीं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com