चोपरा (पश्चिम बंगाल): लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में दार्जिलिंग में हुए मतदान के एक दिन बाद शुक्रवार को दो प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दलों के समर्थकों के बीच कथित रूप से हिंसा हुई. इससे स्थानीय लोगों में तनाव व्याप्त हो गया. एक चुनाव अधिकारी ने यह जानकारी दी.

चुनाव अधिकारी ने बताया कि अज्ञात लोगों ने बम फेंक और गोलियां चलायी जिसमें दार्जिलिंग लोकसभा क्षेत्र के चोपरा इलाके में एक स्कूली छात्र घायल हो गया. अधिकारी ने बताया कि प्रदेश पुलिस का एक बड़ा दस्ता स्थिति को नियंत्रित करने के लिए मौके पर भेजा गया है. उन्होंने बताया कि स्थिति पर नियंत्रण के लिए पुलिसकर्मी हर संभव कदम उठा रहे हैं. हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्षेत्र में कौन गड़बड़ी पैदा कर रहा है. अब तक इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

Lok Sabha election 2019: लोकसभा के दूसरे चरण में 67.84 फीसदी लोगों ने किया मतदान

दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी और रायगंज में हुआ चुनाव
निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के तीन लोकसभा क्षेत्रों-दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी और रायगंज में चुनाव को ‘शांतिपूर्ण’ करार दिया था लेकिन रायगंज सीट के चोपरा और इस्लामपुर व अन्य इलाकों में हिंसा की भयावह घटनाएं सामने आई थी. चोपरा में मतदाताओं ने केंद्रीय बलों की मतदान केंद्रों पर अनुपस्थिति के विरोध में गुरूवार को सड़क जाम कर दिया, जहां उन्हें मताधिकार का इस्तेमाल करने से कथित रूप से रोक दिया गया. अधिकारियों ने बताया कि भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. भीड़ ने पुलिसकर्मियों पर पत्थर फेंके. उन्होंने बताया कि इस हिंसा में कई पुलिसकर्मी भी घायल हो गए.

थेनी में बोले PM मोदी, ‘भारत की विश्व पटल पर तेजी से तरक्की के कारण विपक्ष मुझसे नाराज’

मीडियाकर्मियों से बदसलूकी
रायगंज में स्थानीय समाचार चैनल के एक संवाददाता और एक कैमरामैन के साथ बदसलूकी की गयी क्योंकि वह कटफुलबारी इलाके में चुनाव प्रक्रिया को कवर कर रहे थे. उन्होंने बताया कि इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की गयी है. निर्वाचन क्षेत्र के एक अन्य इलाके में असामाजिक तत्वों ने इवीएम और वीवीपैट मशीनों को क्षतिग्रस्त कर दिया. एक अन्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि बुधवार की शाम छह बजे तक एक अनुमान के मुताबिक रायगंज में 79.35 प्रतिशत जबकि जलपाईगुड़ी में 86.44 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था. उन्होंने बताया कि हमें दार्जिलिंग से अबतक यह आंकड़ा नहीं मिल पाया है कि वहां कितने प्रतिशत लोगों ने मताधिकार का इस्तेमाल किया है. इस लोकसभा क्षेत्र के दूर दराज के इलाकों के मतदान एजेंट अबतक वापस नहीं लौटे हैं. (इनपुट – एजेंसी)

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com