कोलकाता: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मंगलवार को होने वाले रैली के कुछ घंटे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा नेताओं के बैनर व फ्लेक्स सड़क के किनारे हटाए जाने के बाद यहां विवाद पैदा हो गया. अमित शाह का मंगलवार दोपहर बाद मध्य कोलकाता के शहीद मीनार से उत्तरी कोलकाता के स्वामी विवेकानंद आवास तक रोड शो निर्धारित था. रोड शो से ठीक दो घंटे पहले अमित शाह, मोदी व उत्तर कोलकाता के भाजपा उम्मीदवार राहुल सिन्हा के बड़े संख्या में कटआउट व फ्लेक्स लेनिन सरानी मार्ग के बड़े भाग से हटा दिए गए.

ममता बनर्जी ने दिया बड़ा बयान- लोकसभा चुनाव में सबसे ज्यादा सीटें जीतेगी भाजपा, मगर…

भाजपा नेताओं ने राज्य प्रशासन पर शाह की रैली को रोकने के लिए ‘गुंडागर्दी का सहारा लेने’ का आरोप लगाया और आरोप लगाया कि राज्य के सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता जानबूझकर पोस्टरों व कटआउटों को नुकसान पहुंचा रहे हैं. भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, “निर्वाचन आयोग ने हमें रोड शो आयोजित करने की इजाजत दी है. ऐसा कैसे संभव है कि पार्टी के बैनर व झंडों को सड़क पर अनुमति नहीं है? बंगाल सरकार की गुंडागर्दी यहां चल रही है. हम इस बारे में निर्वाचन आयोग से बात करेंगे.” पुलिस ने दावा किया कि चुनाव आयोग के प्रत्यक्ष निर्देश के तहत यह अभियान चलाया गया था, क्योंकि राज्य सरकार की संपत्तियों पर बिना अनुमति के फ्लेक्स लगाए गए थे.

TRS का बड़ा बयान: ‘नहीं करेंगे मोदी का समर्थन, शर्तों के साथ कांग्रेस से लेंगे सपोर्ट’

भाजपा के नेता व कार्यकर्ता दावा कर रहे हैं कि तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ता पुलिस की मौजूदगी में फ्लेक्स हटा रहे हैं. एक भाजपा नेता ने आरोप लगाया, “अगर निर्वाचन आयोग ने ऐसा करने के लिए कहा है तो चुनाव निकाय के कर्मी को मौके पर मौजूद होना चाहिए, लेकिन ये लोग तृणमूल के कार्यकर्ता हैं. वे जानबूझकर कटआउट व फ्लेक्स को नुकसान पहुंचा रहे हैं और उन्हें नुकसान पहुंचाने के लिए सड़क के किनारें फेंक रहे हैं.” निर्वाचन आयोग से जब संपर्क किया गया तो उन्होंने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर उनके पास कोई विशेष अपडेट नहीं हैं. उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी अमितज्योति भट्टाचार्य ने कहा, “इस बिंदु पर हमारे पास कोई विशेष अपडेट नहीं हैं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com