भोपाल: मध्य प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में मंगलवार की रात को हुई तेज बारिश के बीच ओले पड़ने और बिजली गिरने से 10 लोगों की मौत हो गई और साथ ही भारी मात्रा में फसल खराब हुई है. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जन-धन की हानि पर दुख व्यक्त किया है. मौसम में आए बदलाव से मंगलवार की रात को राज्य के कई स्थानों पर तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई और बिजली गिरी थी. इंदौर के हातोद थाना क्षेत्र में बिजली गिरने से एक परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई. जानकारी के अनुसार डासरी गांव के एक परिवार के चार सदस्य मोटर साइकिल से मंगलवार की शाम को किसी रिश्तेदार के घर से गांव लौट रहे थे, तभी तेज बारिश होने की वजह से वे एक पेड़ के नीचे रुक गए. इसी दौरान बिजली गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई, वहीं चौथा व्यक्ति सुरक्षित है.

आधिकारिक तौर पर मिली जानकारी के अनुसार, राजधानी के अलावा इंदौर, धार, शाजापुर, सीहोर, उज्जैन, खरगोन, बड़वानी, राजगढ़ आदि स्थानों पर बारिश हुई है. इससे बड़ा नुकसान हुआ है. ओलावृष्टि और बिजली गिरने से जनहानि व धनहानि हुई है. इस आपदा में धार व शाजापुर जिले में भी तीन-तीन और छिंदवाड़ा में एक व्यक्ति की मौत की खबर मिली है.

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्य में आई आपदा पर ट्वीट कर कहा, “आकाशीय बिजली गिरने से इंदौर, धार जिले में व प्रदेश के अन्य स्थानों पर जनहानि की बेहद दुखदायी घटनाएं सामने आयी. पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं. मैं और मेरी सरकार दुख की इस घड़ी में पीड़ित परिवार के साथ खड़े हैं.”

राज्य में इन दिनों गेहूं की कटाई और मंडियों में खरीदी का काम चल रहा है. बारिश और ओलावृष्टि से खेतों में रखी फसल और मंडी में स्टोर की गई उपज को भी भारी मात्रा में हानि पहुंचने की खबर सामने आई है.