नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश की सियासत में मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कार्यकाल से लेकर कमलनाथ के शासनकाल में सुर्खियों और सत्‍ता के करीबी संपर्कों और विवादों को लेकर अक्‍सर चर्चा में रहने वाले कंप्‍यूटर बाबा ने मध्‍य प्रदेश की सियासी तूफान के बीच एक नया दावा किया है. बाबा ने दावा किया है कि चार एमएलए (बीजेपी विधायक) उनके संपर्क में हैं. जब सही समय होगा, मैं उन्‍हें सबके सामने पेश कर दूंगा. जब मुख्‍यमंत्री कमलनाथ मुझे कहेंगे, मैं उन सभी को उनके सामने पेश कर दूंगा. वे (4 बीजेपी एमएलए) मेरे संपर्क में और उनकी उपेक्षा कि वे सरकार में शामिल हों.

कमलनाथ सरकार के पक्ष में वोटिंग करने वाले दोनों BJP विधायकों को कांग्रेस ने अज्ञात स्‍थान पर भेजा

कंप्‍यूटर बाबा ने यह बयान एक दिन पहले हुए सियासी घटनाक्रम के बीच दिया है, जब बीजेपी दो विधायक नारायण त्र‍िपाठी और शरद कोल बीजेपी का साथ छोड़कर कमलनाथ सरकार के पाले में आ गए थे. विधानसभा में बुधवार को एक विधेयक पर मतविभाजन के दौरान विपक्षी दल भाजपा के दो विधायकों द्वारा कांग्रेस सरकार का समर्थन किए जाने के बाद कांग्रेस ने शाम को दावा किया था कि भाजपा के कुछ और विधायक मुख्यमंत्री कमलनाथ के संपर्क में हैं. प्रदेश सरकार के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने विधानसभा में मतविभाजन के घटनाक्रम के बाद शाम को मीडियाकर्मियों से बातचीत में दावा किया, भाजपा के कुछ और विधायक भी मुख्यमंत्री कमलनाथ के संपर्क में हैं और बाउंड्री पर बैठे हैं.

मंत्री शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज साबित कर दिया कि कांग्रेस सरकार पूरे पांच साल चलेगी, बल्कि उसके आगे भी चलेगी. मंत्री ने यह भी आरोप लगाया कि पूर्व मंत्री एवं भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा कांग्रेस विधायकों को करोड़ों की पेशकश कर रहे हैं, लेकिन वे हिलेंगे नहीं.

एमपी: कमलनाथ सरकार के बिल के पक्ष में बीजेपी के दो एमएलए ने की वोटिंग

बता दें भाजपा को बुधवार को उस वक्त करारा झटका लगा, जब मध्य प्रदेश विधानसभा में एक विधेयक पर मत विभाजन के दौरान पार्टी के दो विधायको ने अपना समर्थन मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस नीत सरकार को दे दिया. ये दोनों विधायक पूर्व में कांग्रेसी नेता रहे हैं और पिछले साल मध्य प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए थे.

हमारे ऊपर वाले नंबर 1 या नंबर 2 का आदेश हुआ तो 24 घंटे भी नहीं चलेगी कमलनाथ सरकार: बीजेपी नेता

भाजपा के इन दोनों विधायकों ने कहा कि यह उनकी घर वापसी है. नारायण त्रिपाठी बार-बार दल बदलने के लिए जाने जाते हैं. उनका सतना के भाजपा सांसद गणेश सिंह से कुछ महीनों से अनबन चल रही है. इसके अलावा, वह चाहते हैं कि मैहर को जिला बनाया जाए. वह लंबे समय से इस सीट से प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. लंबे समय से इलाके के लोग मैहर को नया जिला बनाने की मांग कर रहे हैं, जो विचाराधीन है. वर्तमान में मैहर एक तहसील है और सतना जिले में आता है. वह पहले मध्य प्रदेश समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं.