भिंड: मध्य प्रदेश में बीते 2 अप्रैल को भिंड भारत बंद के विरोध प्रदर्शन में चार सरकारी कर्मचारी भी शामिल हुए थे. भिंड जिला के कलेक्टर ने भारत बंद के विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के आरोप में चार सरकारी कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है. बता दें कि राज्य में बंद के दौरान हुए विरोध प्रदर्शन में व्यापक हिंसा हुई थी और प्रदेश के ग्वालियर, भिंड और मुरैना जिलों में 8 लोगों की मौत हो गई थी. इसमें सबसे अधिक चार लोग भिंड जिले में मारे गए थे. Also Read - Bharat Bandh: कृषि विधेयक के खिलाफ सड़कों पर उतरे पंजाब और हरियाणा के किसान, सुखबीर बादल और हरसिमरत ने निकाला ट्रेक्टर मार्च

चारों कर्मचारी कलेक्टर कार्यालय में पदस्थ 
कलेक्टर इल्लैया राजा टी ने शनिवार को बताया कि निलंबित चारों कर्मचारी भिंड जिला कलेक्टर कार्यालय में पदस्थ हैं और इन्होंने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया था. इन चार कर्मचारियों की पहचान सुरेश कौशल (सहायक ग्रेड-2), योगेश गुप्ता (सहायक ग्रेड-2) प्रवेश दोहरे (चपरासी) और महेश वर्मा (सहायक लिपिक) के तौर पर की गई है.उन्होंने बताया कि जांच में यह सामने आया है कि इन चारों कर्मचारियों ने दो अप्रैल के प्रदर्शन में हिस्सा लिया. Also Read - Bharat Bandh Live Update: बिहार में प्रदर्शन के दौरान झड़प, पप्पू यादव के कार्यकर्ताओं की लाठी डंडों से पिटाई

आरोपियों पर 10,000 रुपए का इनाम घोषित
भिंड के जिला पुलिस अधीक्षक प्रशांत खरे ने बताया कि 2 अप्रैल के प्रदर्शन के दौरान हिंसा में शामिल फरार आरोपियों की गिरफ्तारी पर 10,000 रुपए का इनाम घोषित किया गया है. उन्होंने बताया कि एक सूचना पर गजराज जाटव को भोपाल में गिरफ्तार किया गया. गजराज पर बंद के दौरान हिंसा में शामिल होने का आरोप है. (इनपुट- एजेंसी) Also Read - Bharat Bandh: देश में दिख रहा भारत बंद का असर, कहीं पटरियों पर लेटे किसान तो कहीं हाईवे किया जाम